Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

वही आवाज़

SUPRABHAT
मित्रों आज फिर से उसने आवाज लगाईं
जो मुझे सुनाई
मीरा सूर काली औ कबीरा
सूफी सांत औ गाये फकीरा
तू मेरा है मैं हूँ तेरा
रहता कहाँ धर्म जाती का फेरा
तेरा मेरा रिश्ता पूरा
बाकी सारा जगत अधूरा
सत्य हूँ मैं और प्यार भी मेरा
मैं भी होना चाहूँ तेरा
बाल्मीकि की संस्कृत अनोखी
गाए मस्त होकर रविदासा
तेरा मेरी भूल के प्राणी
ध्यान लगा क्यों मिला शरीरा
कोई नहीं तेरा सबकुछ मेरा
क्षणभंगुर ये जीवन तेरा
सत्य को जान मुझे पहचान ले
बस इतना ही समय अधीरा
न मंदिर में न गिरजा में
न मस्जिद में गुरुद्वारे में
मैं तो तेरे अन्दर बैठा
मैं बाहर भी कण-कण व्यापा
क्यों भटका तू मुझे विसराय
मैंने ही तो खेल रचाया
मुर्ख जन ने मुझको बांटा
कई भेदों में मुझको गाया
फिर भी इन्सान समझ न पाया
झूठा ही पाखंड रचाया
कर्मों के कारन दुःख पाया
और मुझे दोषी ठहराया
तू मेरी प्यारी एक रचना
कैसे तुझको मैं बिसरा दू
सारे दोष है तेरे भुलाकर
मैंने सदा ही गले लगाया
आज कहूँ फिर-फिर ये तुमसे
खुद को जानो और पहचानो
क्यों मैंने तुम्हें इनसान बनाया
रहो प्रसन्न मिलजुलकर सारे
मैंने तो वसुधैवकुटुंब बनाया
करो वही जो खुद को चाहो
व्यर्थ किसी को नहीं सताओ
आज यही सन्देश दिलाया

2 Comments · 366 Views
You may also like:
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
*"पिता"*
Shashi kala vyas
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
इंतजार
Anamika Singh
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
देश के नौजवानों
Anamika Singh
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...