Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 23, 2021 · 1 min read

वर्षा-वर्णन

नदी नदी उमड़ पड़ी, घुमड़ पड़ी घटा-घटा।
जोर-शोर हो रहा, चमक-दमक रही छटा।

घोर-घाम-ताप-थाम, शाम फिर से घिर चला।
काली रात गोद में, मुदित मन तिमिर चला।

रात ने जो बात की, जलद ने बरसात की।
बिजलियाँ बताती हैं, कथा कोई घात की।

तीव्र-तीव्र श्वांस ले, उड़ रहें है घास से।
छिन्न-भिन्न भटक रहे, घन कोई उदास से।

आँख रक्त-लाल-लाल, बीच-बीच में कराल।
कालिका सी दौड़ती, ज्यों लिए कर कपाल।

चारों ओर की धरा, स्वेद से भरा-डरा।
खेद-खिन्न-होके-द्रुम, थर-थरा-कुसुम झरा।

बूँद-बूँद इधर बरस, ताल भरत होत हरष।
किन्तु डरत जात सिहर, सोच-टपक-तड़ित-परस।

सेतु सारे डूब रहे, ज्यों पाप के घड़े भरे।
पार कर सकेगा कौन , वृहद पुण्य-नाव रे।

गॉंव की गली चली, वृष्टि धारा मनचली।
हाट-बाट-घाट को भी, पाट-पट किया मली।

हार-हार प्यार देत, विजय-हार डार देत।
कुसम-कली गिरा-गिरा, वृक्ष फिर पुकार देत।

नीड़ पर निवास कर, रहे थे जो भी पंछीवर।
खोह-खोजे फिर रहे , इन्द्रवज्र दैत्य डर।

भटक रहे इधर उधर, उड़ रहे ये पंखधर।
रहन-सहन न हो सके, पवन का उठा भंवर।

टूट से पड़े हैं अब, बादलों की भीड़ सब।
घोर-रात होत-जात, दिखे न ओर-छोर तब।

1 Like · 3 Comments · 280 Views
You may also like:
कलम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माई री ,माई री( भाग १)
Anamika Singh
वेश्या का दर्द
Anamika Singh
जब से आया शीतल पेय
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
मै हिम्मत नही हारी
Anamika Singh
" अपनी ढपली अपना राग "
Dr Meenu Poonia
मेहनत
AMRESH KUMAR VERMA
मुक्तक
AJAY PRASAD
वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वो मां थी जो आशीष देती रही।
सत्य कुमार प्रेमी
चल रहा वो
Kavita Chouhan
मत पूछो कोई वो क्या थे
VINOD KUMAR CHAUHAN
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
✍️मनस्ताप✍️
'अशांत' शेखर
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
" जननायक "
DrLakshman Jha Parimal
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
धड़कनों की सदा।
Taj Mohammad
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
✍️फिर भी लगाव✍️
'अशांत' शेखर
इश्क़ पर लिखे कुछ अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जहाँ न पहुँचे रवि
विनोद सिल्ला
कर्म करो
Anamika Singh
Loading...