Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 10, 2022 · 1 min read

वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में तृतीय भाग

प्रतिकूल परिस्थितियों के लिए संसार को कोसना सर्वथा व्यर्थ है। संसार ना तो किसी का दुश्मन है और ना हीं किसी का मित्र। संसार का आपके प्रति अनुकूल या प्रतिकूल बने रहना बिल्कुल आप पर निर्भर करता है। महत्वपूर्ण बात ये है कि आप स्वयं के लिए किस तरह के संसार का चुनाव करते हैं। प्रस्तुत है मेरी कविता “वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में” का तृतीय भाग।
=======
क्या रखा है वक्त गँवाने
औरों के आख्यान में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
=======
स्व संशय पर आत्म प्रशंसा
अति अपेक्षित होती है,
तभी आवश्यक श्लाघा की
प्रज्ञा अनपेक्षित सोती है।
=======
दुर्बलता हीं तो परिलक्षित
निज का निज से गान में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
=======
जो कहते हो वो करते हो
जो करते हो वो बनते हो,
तेरे वाक्य जो तुझसे बनते
वैसा हीं जीवन गढ़ते हो।
========
सोचो प्राप्त हुआ क्या तुझको
औरों के अपमान में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
=========
तेरी जिह्वा, तेरी बुद्धि ,
तेरी प्रज्ञा और विचार,
जैसा भी तुम धारण करते
वैसा हीं रचते संसार।
=========
क्या गर्भित करते हो क्या
धारण करते निज प्राण में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
=========
क्या रखा है वक्त गँवाने
औरों के आख्यान में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
=========
अजय अमिताभ सुमन:
सर्वाधिकार सुरक्षित

29 Views
You may also like:
बदरिया
Dhirendra Panchal
विश्व जनसंख्या दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
मेरा जीवन
Anamika Singh
बाजारों में ना बिकती है।
Taj Mohammad
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
रोना भी बहुत जरूरी है।
Taj Mohammad
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
^^मृत्यु: अवश्यम्भावी^^
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️सूफ़ियाना जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
मै वह हूँ।
Anamika Singh
कल खो जाएंगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
रिश्तो मे गलतफ़हमी
Anamika Singh
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
ज़िंदगी बे'जवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
✍️एक कन्हैयालाल✍️
'अशांत' शेखर
फिर तुम उड़ न पाओगे
Anamika Singh
अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा
Ravi Prakash
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
" सहज कविता "
DrLakshman Jha Parimal
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
✍️दरिया और समंदर✍️
'अशांत' शेखर
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...