Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 26, 2022 · 1 min read

वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में [द्वितीय भाग]

=====
धर्म ग्रंथों के प्रति श्रद्धा का भाव रखना सराहनीय हैं। लेकिन इन धार्मिक ग्रंथों के प्रति वैसी श्रद्धा का क्या महत्व जब आपके व्यवहार इनके द्वारा सुझाए गए रास्तों के अनुरूप नहीं हो? आपके धार्मिक ग्रंथ मात्र पूजन करने के निमित्त नहीं हैं? क्या हीं अच्छा हो कि इन ग्रंथों द्वारा सुझाए गए मार्ग का अनुपालन कर आप स्वयं हीं श्रद्धा के पात्र बन जाएं। प्रस्तुत है मेरी कविता “वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में” का द्वितीय भाग।
=====
क्या रखा है वक्त गँवाने
औरों के आख्यान में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
=====
धर्मग्रंथ के अंकित अक्षर
परम सत्य है परम तथ्य है,
पर क्या तुम वैसा कर लेते
निर्देशित जो धरम कथ्य है?
=====
अक्षर के वाचन में क्या है
तोते जैसे गान में?
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
=====
दिनकर का पूजन करने से
तेज नहीं संचित होता ,
धर्म ग्रन्थ अर्चन करने से
अक्ल नहीं अर्जित होता।
=====
मात्र बुद्धि की बात नहीं
विवर्द्धन कर निज ज्ञान में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
=====
जिस ईश्वर की करते बातें
देखो सृष्टि रचने में,
पुरुषार्थ कितना लगता है
इस जीवन को गढ़ने में।
=====
कुछ तो गरिमा लाओ निज में
क्या बाहर गुणगान में?
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
=====
क्या रखा है वक्त गँवाने
औरों के आख्यान में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
=====
अजय अमिताभ सुमन
सर्वाधिकार सुरक्षित

43 Views
You may also like:
✍️"नंगे को खुदा डरे"✍️
'अशांत' शेखर
# दोस्त .....
Chinta netam " मन "
✍️Happy Friendship Day✍️
'अशांत' शेखर
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
यह दिल
Anamika Singh
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
'अशांत' शेखर
✍️मनस्ताप✍️
'अशांत' शेखर
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
देश के हित मयकशी करना जरूरी है।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त ए ज़लाल।
Taj Mohammad
पिता घर की पहचान
vivek.31priyanka
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
My dear Mother.
Taj Mohammad
जनसंख्या नियंत्रण जरूरी है।
Anamika Singh
खामों खां
Taj Mohammad
गुरुर
Annu Gurjar
तुम पतझड़ सावन पिया,
लक्ष्मी सिंह
यादों के झरोखों से।
Taj Mohammad
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
सुकुने अहसास।
Taj Mohammad
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
✍️क़हर✍️
'अशांत' शेखर
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
फूल की महक
DESH RAJ
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
समुद्री जहाज
Buddha Prakash
हाँथो में लेकर हाँथ
Mamta Rani
Loading...