Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2022 · 2 min read

वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में [प्रथम भाग]

अपनी समृद्ध ऐतिहासिक विरासत पर नाज करना किसको अच्छा नहीं लगता? परंतु इसका क्या औचित्य जब आपका व्यक्तित्व आपके पुरखों के विरासत से मेल नहीं खाता हो। आपके सांस्कृतिक विरासत आपकी कमियों को छुपाने के लिए तो नहीं बने हैं। अपनी सांस्कृतिक विरासत का महिमा मंडन करने से तो बेहतर ये हैं कि आप स्वयं पर थोड़ा श्रम कर उन चारित्रिक ऊंचाइयों को छू लेने का प्रयास करें जो कभी आपके पुरखों ने अपने पुरुषार्थ से छुआ था। प्रस्तुत है मेरी कविता “वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में” का प्रथम भाग।

वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में
[प्रथम भाग]
==========
क्या रखा है वक्त गँवाने
औरों के आख्यान में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
==========
पूर्व अतीत की चर्चा कर
क्या रखा गर्वित होने में?
पुरखों के खड्गाघात जता
क्या रखा हर्षित होने में?
भुजा क्षीण तो फिर क्या रखा
पुरावृत्त अभिमान में?
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
==========
कुछ परिजन के सुरमा होने
से कुछ पल हीं बल मिलता,
निज हाथों से उद्यम रचने
पर अभिलाषित फल मिलता।
करो कर्म या कल्प गवां
उन परिजन के व्याख्यान में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
==========
दूजों से निज ध्यान हटा
निज पे थोड़ा श्रम कर लेते,
दूजे कर पाये जो कुछ भी
क्या तुम वो ना वर लेते ?
शक्ति, बुद्धि, मेधा, ऊर्जा
ना कुछ कम परिमाण में।
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
==========
क्या रखा है वक्त गँवाने
औरों के आख्यान में,
वर्तमान से वक्त बचा लो
तुम निज के निर्माण में।
==========
अजय अमिताभ सुमन:
सर्वाधिकार सुरक्षित

2 Likes · 250 Views
You may also like:
■ चौराहे पर जीवन
*Author प्रणय प्रभात*
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
बारिश
Saraswati Bajpai
पत्रकार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"पति परमेश्वर "
Dr Meenu Poonia
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आने वाला वर्ष भी दे हमें भरपूर उत्साह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
*बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट*
Ravi Prakash
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
#किताबों वाली टेबल
Seema 'Tu hai na'
महारानी एलिजाबेथ द्वितीय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बरसात
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
द्रौपदी चीर हरण
Ravi Yadav
मुक्त परिंदे पुस्तक समीक्षा
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
✍️हर इँसा समता का हकदार है
'अशांत' शेखर
مستان میاں
Shivkumar Bilagrami
महादेवी वर्मा जी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
कंकाल
Harshvardhan "आवारा"
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
मत पूछो हमसे हिज्र की हर रात हमने गुजारी कैसे...
सुषमा मलिक "अदब"
गणपति
विशाल शुक्ल
अब हार भी हारेगा।
Chaurasia Kundan
फर्क़ ए मुहब्बत
shabina. Naaz
यह सागर कितना प्यासा है।
Anil Mishra Prahari
समीक्षा सॉनेट संग्रह
Pakhi Jain
अमृता प्रीतम
Dr fauzia Naseem shad
ये आंसू
Shekhar Chandra Mitra
कुनमुनी नींदे!!
Dr. Nisha Mathur
Loading...