Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

वर्ण पिरामिड

वर्ण पिरामिड

है
आया
नूतन
किसलय
कहने यह
बढ़ो फलो फ़ूलो
धरती खिल जाये ।

साहित्यकार डॉ0 रामबली मिश्र वाराणसी।

17 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
सुकून
सुकून
Neeraj Agarwal
" सत कर्म"
Yogendra Chaturwedi
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
Shweta Soni
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
डोर
डोर
Dr. Mahesh Kumawat
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*राम तुम्हारे शुभागमन से, चारों ओर वसंत है (गीत)*
*राम तुम्हारे शुभागमन से, चारों ओर वसंत है (गीत)*
Ravi Prakash
सारे ही चेहरे कातिल है।
सारे ही चेहरे कातिल है।
Taj Mohammad
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
Anand Kumar
परीलोक से आई हो 🙏
परीलोक से आई हो 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2559.पूर्णिका
2559.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मोहे वृंदावन न भायै, .....(ऊधो प्रसंग)
मोहे वृंदावन न भायै, .....(ऊधो प्रसंग)
पं अंजू पांडेय अश्रु
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बेशक प्यार उनसे बेपनाह था......
बेशक प्यार उनसे बेपनाह था......
रुचि शर्मा
इस शहर में कितने लोग मिले कुछ पता नही
इस शहर में कितने लोग मिले कुछ पता नही
पूर्वार्थ
"भलाई"
Dr. Kishan tandon kranti
*_......यादे......_*
*_......यादे......_*
Naushaba Suriya
सदा दूर रहो गम की परछाइयों से,
सदा दूर रहो गम की परछाइयों से,
Ranjeet kumar patre
मां बाप
मां बाप
Mukesh Kumar Sonkar
May 3, 2024
May 3, 2024
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
शराब
शराब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गांधीजी का भारत
गांधीजी का भारत
विजय कुमार अग्रवाल
■ एक महीन सच्चाई।।
■ एक महीन सच्चाई।।
*प्रणय प्रभात*
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
ओसमणी साहू 'ओश'
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
Dr. Man Mohan Krishna
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
Loading...