Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

वर्ण पिरामिड और सिंहावलोकनी दोहा मुक्तक

यह मेरी नवविधा है – ”वर्ण पिरामिड”
*************
[इसमे प्रथम पंक्ति में -एक ; द्वितीय में -दो ; तृतीया में- तीन ; चतुर्थ में -चार; पंचम में -पांच; षष्ठम में- छः; और सप्तम में -सात वर्ण है,,, इसमें केवल पूर्ण वर्ण गिने जाते हैं ,,,,मात्राएँ या अर्द्ध -वर्ण नहीं गिने जाते ,,,यह केवल सात पंक्तियों की ही रचना है इसीलिए सूक्ष्म में अधिकतम कहना होता है ,,किन्ही दो पंक्तियों में तुकांत मिल जाये तो रचना में सौंदर्य आ जाता है ] जैसे-

है
धीर ,
गंभीर,
धरा पुत्र ,
बहा दे नीर,
पर्वत को चीर ,
युद्ध में महावीर । (1)

ये
पग,
साहसी,
अविचल,
लक्ष्य बोधक,
विजय द्योतक ,
स्वर्णिम सम्बोधक । (2)

**सुरेशपाल वर्मा ‘जसाला’ (दिल्ली)

————————————————

मेरी एक और नव विधा – *सिंहावलोकनी दोहा मुक्तक*
***********************

*****कृपया ध्यान दें ****(दोहे के साथ ,,,जिस शब्द या शब्दों से पँक्ति समाप्त होती है ,,उसी शब्द या शब्दों से अगली पंक्ति प्रारम्भ होती है ,,,हर पंक्ति 13 +11 मात्राभार रखती है ) मुक्तक में तीसरी पंक्ति का तुकांत भिन्न होता है.

*****दोहानुसार मात्राक्रम प्रति पंक्ति –

**[१] — 4 +4 +2 +3 (1 2 ),,,,,,4 +4+3 (2 1 )
या [२]—3 +3 +4 +3 (1 2 ),,,,3+3+2+3 (2 1 )
या [३]—4 +4 +2 +3 (1 2 ),,,,3+3+2+3 (2 1 )
या [४]—3 +3 +4 +3 (1 2 ),,,,,,,4 +4+3 (2 1)

*****************************************

सच्चाई का खून ह्वै ,खिला झूठ का रंग
रंग प्यार का बह गया ,है विधान भी दंग
दंग सभी जन मन यहाँ ,देख वोट का खेल
खेल सत्य का ही करो ,रहो सभी मिल संग। [१]
वृक्ष तले जब राजते ,गौं पालक घन श्याम ;
श्याम रंग मन ये बसा,भजते जो निष्काम ;
काम क्रोध संकट कटें ,प्रमुदित मन संसार ;
सार रूप राधे भजो ,भजो कृष्ण का नाम । [२]

*****सुरेशपाल वर्मा जसाला (दिल्ली)

Category: Sahitya Kaksha
Language: Hindi
Tag: लेख
17 Likes · 7 Comments · 1222 Views
You may also like:
रिश्ते
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Indian Women
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अध्यापक दिवस
Satpallm1978 Chauhan
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
मौत
Alok Saxena
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
उठो युवा तुम उठो ऐसे/Uthao youa tum uthao aise
Shivraj Anand
महाराणा प्रताप और बादशाह अकबर की मुलाकात
मोहित शर्मा ज़हन
वर्षा
विजय कुमार 'विजय'
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
तेरे बिना सूनी लगती राहें
जगदीश लववंशी
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
प्यार -ए- इतिहास
Nishant prakhar
खींच मत अपनी ओर.....
डॉ.सीमा अग्रवाल
चल कहीं
Harshvardhan "आवारा"
असली गुनहगार
Shekhar Chandra Mitra
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
पूनम की रात में चांद व चांदनी
Ram Krishan Rastogi
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
तीन शर्त"""'
Prabhavari Jha
हर घर तिरंगा अभियान कितना सार्थक ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
जिनके पास अखबार नहीं होते
Kaur Surinder
I sat back and watched YOU lose me.
Manisha Manjari
सुकूं का प्यासा है।
Taj Mohammad
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
Loading...