Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 6, 2016 · 1 min read

वर्ण पिरामिड और सिंहावलोकनी दोहा मुक्तक

यह मेरी नवविधा है – ”वर्ण पिरामिड”
*************
[इसमे प्रथम पंक्ति में -एक ; द्वितीय में -दो ; तृतीया में- तीन ; चतुर्थ में -चार; पंचम में -पांच; षष्ठम में- छः; और सप्तम में -सात वर्ण है,,, इसमें केवल पूर्ण वर्ण गिने जाते हैं ,,,,मात्राएँ या अर्द्ध -वर्ण नहीं गिने जाते ,,,यह केवल सात पंक्तियों की ही रचना है इसीलिए सूक्ष्म में अधिकतम कहना होता है ,,किन्ही दो पंक्तियों में तुकांत मिल जाये तो रचना में सौंदर्य आ जाता है ] जैसे-

है
धीर ,
गंभीर,
धरा पुत्र ,
बहा दे नीर,
पर्वत को चीर ,
युद्ध में महावीर । (1)

ये
पग,
साहसी,
अविचल,
लक्ष्य बोधक,
विजय द्योतक ,
स्वर्णिम सम्बोधक । (2)

**सुरेशपाल वर्मा ‘जसाला’ (दिल्ली)

————————————————

मेरी एक और नव विधा – *सिंहावलोकनी दोहा मुक्तक*
***********************

*****कृपया ध्यान दें ****(दोहे के साथ ,,,जिस शब्द या शब्दों से पँक्ति समाप्त होती है ,,उसी शब्द या शब्दों से अगली पंक्ति प्रारम्भ होती है ,,,हर पंक्ति 13 +11 मात्राभार रखती है ) मुक्तक में तीसरी पंक्ति का तुकांत भिन्न होता है.

*****दोहानुसार मात्राक्रम प्रति पंक्ति –

**[१] — 4 +4 +2 +3 (1 2 ),,,,,,4 +4+3 (2 1 )
या [२]—3 +3 +4 +3 (1 2 ),,,,3+3+2+3 (2 1 )
या [३]—4 +4 +2 +3 (1 2 ),,,,3+3+2+3 (2 1 )
या [४]—3 +3 +4 +3 (1 2 ),,,,,,,4 +4+3 (2 1)

*****************************************

सच्चाई का खून ह्वै ,खिला झूठ का रंग
रंग प्यार का बह गया ,है विधान भी दंग
दंग सभी जन मन यहाँ ,देख वोट का खेल
खेल सत्य का ही करो ,रहो सभी मिल संग। [१]
वृक्ष तले जब राजते ,गौं पालक घन श्याम ;
श्याम रंग मन ये बसा,भजते जो निष्काम ;
काम क्रोध संकट कटें ,प्रमुदित मन संसार ;
सार रूप राधे भजो ,भजो कृष्ण का नाम । [२]

*****सुरेशपाल वर्मा जसाला (दिल्ली)

17 Likes · 7 Comments · 1050 Views
You may also like:
" पवित्र रिश्ता "
Dr Meenu Poonia
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
मां की पुण्यतिथि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
"अशांत" शेखर
क़ैद में 15 वर्षों तक पृथ्वीराज और चंदबरदाई जीवित थे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
" हसीन जुल्फें "
DESH RAJ
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
आ तुझको बसा लूं आंखों में।
Taj Mohammad
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लाशें बिखरी पड़ी हैं।(यूक्रेन पर लिखी गई ग़ज़ल)
Taj Mohammad
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
✍️पुरानी रसोई✍️
"अशांत" शेखर
लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
संगीतमय गौ कथा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
पिता
Dr.Priya Soni Khare
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
अरदास
Buddha Prakash
Loading...