Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 13, 2017 · 1 min read

*वर्ण का महाजाल और संतुष्टि*

**ये सपने नहीं हकीकत है,
चुकती जिसमें कीमत है,
ख्वाब नहीं ..
..जो टूट जाए,
आंखें ..खुलते ही,

चिपक जाते है जो जन्म लेते ही,
ऐसी-वैसी नहीं व्यवस्था,
जो बंटी हो वर्गो में,
जकड़ी हुई जो वर्ण-व्यवस्था से,
है बड़ी विकराल समस्या,

फंसा है जाल में…
जाल में ही मर जाएगा,
पर चक्रव्यूह न तोड़ पाएगा..।

आखिर
शिक्षित बनो !
संगठित रहो !
संघर्ष करो !
सूत्र ही सम्मान बचाऐगा,

तब जाकर कोई ,
जीवन को धन्य कह पाएगा !
जीव जीवन को गर..धन्य न कहे ,
तब तक कौन कहे ..
डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,
कोई मिथ्या से मुक्त हो पाया है,

1 Like · 1 Comment · 356 Views
You may also like:
महँगाई
आकाश महेशपुरी
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
मेरी लेखनी
Anamika Singh
गीत
शेख़ जाफ़र खान
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
यादें
kausikigupta315
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...