Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2016 · 2 min read

वर्चुअल इश्क़

वर्चुअल इश्क़
उधर तुम चैट पर जल रही होती हो कभी हरी तो कभी पीली और इधर वो तो बस लाल ही होता है. ऐप्स के बीच में फंसी जिंदगी वह जाना भी नहीं चाहता था और जताना भी नहीं. वो जितने ऐप्स डाउनलोड करता वो उतना ही दूर जा रही थी. अब मामला हरे और लाल का नहीं था अब मसला जवाब मिलने और उसके लगातार ऑनलाइन रहने के बीच के फासले का था.
स्मार्ट फोन की कहानी और उसकी कहानी के बीच एक नई कहानी पैदा हो रही थी. उसने स्माइली का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया, पर दिल की भावनाओं को चंद चिह्नों में समेटा जा सकता है क्या? रियल अब वर्चुअल हो चला था. दो चार स्माइली के बीच सिमटता रिश्ता वो कहता नहीं था और उसके पास सुनने का वक्त नहीं था, ऐप्स की दीवानी जो ठहरी. सब कुछ मशीनी हो रहा था. सुबह गुडमार्निंग का रूटीन सा एफ बी मैसेज और शाम को गुडनाइट.
दिन भर हरी और पीली होती हुई चैट की बत्तियों के बीच कोई जल रहा था तो कोई बुझता ही जा रहा था. काश तुम टाइमलाइन रिव्यू होते जब चाहता अनटैग कर देता. अक्सर वो सोचता रहता. वो तो हार ही रहा था पर वो भी क्या जीत रही थी. कुछ सवाल जो चमक रहे थे चैट पर जलने वाली बत्ती की तरह रिश्ते मैगी नहीं होते कि दो मिनट में तैयार. ये सॉरी और थैंक्यू से नहीं बहलते इनको एहसास चाहिए जो वॉट्स ऐप्प और वाइबर जैसे एप्स नहीं देते उसे तो आगे जाना था पर ये तो पीछे जाना चाहता था जब रियल पर वर्चुअल हावी नहीं था.
क्या इस रिश्ते को साइन आउट करने का वक्त आ गया था या ये सब रियल नहीं महज वर्चुअल था. वो हमेशा इनविजिबल रहा करता था वर्चुअल रियल्टी की तरह जहां है, वहां है नहीं… जहां नहीं है, वहां हो भी नहीं सकता. वो इनविजिबल ही आया था और अब इनविजिबल ही विदा किया जा रहा था. शायद ब्लॉक होना उसकी नियति है. अब वो जवाब नहीं देती थी और जो जवाब आते उनमें जवाब से ज्यादा सवाल खड़े होते. चैट की बत्तियां उसके लिए बंद की जा चुकी थी. इशारा साफ था अब उसे जाना होगा साइन आउट करने का वक्त चुका था. वर्चुअल रियल नहीं हो सकता, सबक दिया जा चुका था. जिंदगी आगे बढ़ने का नाम है पीछे लौटने का नहीं.

Language: Hindi
Tag: कहानी
188 Views
You may also like:
जीवन
Mahendra Narayan
*अदब *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गोवर्धन पूजन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
बहकने दीजिए
surenderpal vaidya
होली
लक्ष्मी सिंह
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
श्री गणेश जी (भक्ति गीतिका)
Ravi Prakash
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
साजन तेरे गाँव का, पनघट इतना दूर
Dr Archana Gupta
यकीं इत्तिफाक़
Dr fauzia Naseem shad
:::::जर्जर दीया::::
MSW Sunil SainiCENA
✍️13/07 (तेरा साथ)✍️
'अशांत' शेखर
अधूरी सी प्रेम कहानी
Seema 'Tu hai na'
🪔सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अम्मा जी
Rashmi Sanjay
💐दोषानां निवारणस्य कृते प्रार्थना💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिल्प कुशल रांगेय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उजालों के घर
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरी बनारस यात्रा
विनोद सिल्ला
इसीलिए मेरे दुश्मन बहुत है
gurudeenverma198
'धरती माँ'
Godambari Negi
बस तू चाहिए
Harshvardhan "आवारा"
हिकायत से लिखी अब तख्तियां अच्छी नहीं लगती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी कभी।
Taj Mohammad
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
आपकी यादों में
Er.Navaneet R Shandily
Loading...