Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दुखों की कहूँ, दास्ताँ कैसे कैसे

दुखों की कहूँ, दास्ताँ कैसे कैसे
वबा खा गई, नौजवाँ कैसे कैसे

कहाँ खो गए, भीड़ में छोड़ तन्हा
क़ज़ा ले चली, आसमाँ कैसे कैसे

तसव्वुर से बाहिर, न निकले कभी हम
थे शामिल यहाँ, दो जहाँ कैसे कैसे

सितमगर ने ढाए हैं, मुझपे सितम यूँ
बताएँ तुम्हें क्या, कहाँ कैसे कैसे

न पूछो ग़मों की, कहानी है लम्बी
हसीं हादसे थे, यहाँ कैसे कैसे

•••

9 Likes · 14 Comments · 157 Views
You may also like:
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
झूला सजा दो
Buddha Prakash
अंतिमदर्शन
विनोद सिन्हा "सुदामा"
उसको बता दो।
Taj Mohammad
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
बाल कविता —टेडी बेयर
लक्ष्मी सिंह
मोहब्बत-ए-यज़्दाँ ( ईश्वर - प्रेम )
Shyam Sundar Subramanian
ज़िंदगी इम्तिहान लेती रही
Dr fauzia Naseem shad
जो किसी से ख़फ़ा
Dr fauzia Naseem shad
सुंदर बाग़
DESH RAJ
ख्वाब को बाँध दो
Anamika Singh
✍️चाबी का एक खिलौना✍️
'अशांत' शेखर
पर्यावरण बचाओ रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दया करो भगवान
Buddha Prakash
हिसाब मोहब्बत का।
Taj Mohammad
शाम सुहानी सावन की
लक्ष्मी सिंह
नया सपना
Kanchan Khanna
तू अहम होता।
Taj Mohammad
✍️आदत और हुनर✍️
'अशांत' शेखर
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
खुशबू
DESH RAJ
✍️मानो तो ये भी सही✍️
'अशांत' शेखर
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
गुनाह पर गुनाह।
Taj Mohammad
फौजी
Seema 'Tu haina'
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
✍️कुछ राज थे✍️
'अशांत' शेखर
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
Loading...