Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2020 · 3 min read

वफादार कुत्ता ‘ मार्शल ‘

गोपाल किशन जी एक सेवानिवृत अध्यापक हैं ।
सुबह दस बजे तक ये एकदम स्वस्थ प्रतीत हो रहे थे । शाम के 7 बजते-बजते तेज बुखार के साथ-साथ वे सारे लक्षण दिखायी देने लगे जो एक कोरोना पॉजीटिव मरीज के अंदर दिखाई देते हैं ।
परिवार के सदस्यों के चेहरों पर खौफ़ साफ़ दिखाई पड़ रहा था ।
उनकी चारपाई घर के एक पुराने बड़े से बाहरी कमरे में डाल दी गयी जिसमें इनके पालतू कुत्ते मार्शल का बसेरा है गोपाल किशन जी कुछ साल पहले एक छोटा सा घायल पिल्ला सड़क से उठाकर लाये थे और अपने बच्चे की तरह पालकर इसको नाम दिया मार्शल ।
इस कमरे में अब गोपाल किशन जी,
उनकी चारपाई और उनका प्यारा मार्शल हैं ।
दोनों बेटों -बहुओं ने दूरी बना ली और बच्चों को भी पास ना जानें के निर्देश दे दिए गये ।
सरकार द्वारा जारी किये गये नंबर पर फोन करके सूचना दे दी गयी ।
खबर मुहल्ले भर में फैल चुकी थी लेकिन मिलने कोई नहीं आया ।
साड़ी के पल्ले से मुँह लपेटे हुए, हाथ में छड़ी लिये पड़ोस की कोई एक बूढी अम्मा आई और गोपाल किशन जी की पत्नी से बोली -“अरे कोई इसके पास दूर से खाना भी सरका दो,
वे अस्पताल वाले तो इसे भूखे को ही ले जाएँगे उठा के” ।
अब प्रश्न ये था कि उनको खाना देनें के लिये कौन जाए । बहुओं ने खाना अपनी सास को पकड़ा दिया अब गोपाल किशन जी की पत्नी के हाथ , थाली पकड़ते ही काँपने लगे , पैर मानो खूँटे से बाँध दिये गए हों ।
इतना देखकर वह पड़ोसन बूढ़ी अम्मा बोली “अरी तेरा तो पति है तू भी ……..।
मुँह बाँध के चली जा और दूर से थाली सरका दे
वो अपने आप उठाकर खा लेगा” ।
सारा वार्तालाप गोपाल किशन जी चुपचाप सुन रहे थे, उनकी आँखें नम थी और काँपते होठों से उन्होंने कहा कि “कोई मेरे पास ना आये तो बेहतर है,
मुझे भूख भी नहीं है” ।
इसी बीच एम्बुलेंस आ जाती है और गोपाल किशन जी को एम्बुलेंस में बैठने के लिये बोला जाता है ।
गोपाल किशन जी घर के दरवाजे पर आकर एक बार पलटकर अपने घर की तरफ देखते हैं ।
पोती -पोते First floor की खिड़की से मास्क लगाए दादा को निहारते हुए और उन बच्चों के पीछे सर पर पल्लू रखे उनकी दोनों बहुएँ दिखाई पड़ती हैं ।
Ground floor पर, दोनों बेटे काफी दूर, अपनी माँ के साथ खड़े थे ।
विचारों का तूफान गोपाल किशन जी के अंदर उमड़ रहा था ।
उनकी पोती ने उनकी तरफ हाथ हिलाते हुए Bye कहा । एक क्षण को उन्हें लगा कि ‘जिंदगी ने अलविदा कह दिया’
गोपाल किशन जी की आँखें लबलबा उठी । उन्होंने बैठकर अपने घर की देहरी को चूमा और एम्बुलेंस में जाकर बैठ गये ।
उनकी पत्नी ने तुरंत पानी से भरी बाल्टी घर की उस देहरी पर उलेड दी जिसको गोपाल किशन चूमकर एम्बुलेंस में बैठे थे ।
इसे तिरस्कार कहो या मजबूरी , लेकिन ये दृश्य देखकर कुत्ता भी रो पड़ा और उसी एम्बुलेंस के पीछे – पीछे हो लिया जो गोपाल किशन जी को अस्पताल लेकर जा रही थी ।
गोपाल किशन जी अस्पताल में 14 दिनों के अब्ज़र्वेशन पीरियड में रहे ।
उनकी सभी जाँच सामान्य थी ।
उन्हें पूर्णतः स्वस्थ घोषित करके छुट्टी दे दी गयी ।
जब वह अस्पताल से बाहर निकले तो उनको अस्पताल के गेट पर उनका कुत्ता मार्शल बैठा दिखाई दिया
दोनों एक दूसरे से लिपट गए । आंसू बांध तोड़ बह चले ।
जब तक उनके बेटों की लम्बी गाड़ी उन्हें लेने पहुँचती तब तक वो अपने कुत्ते को लेकर किसी दूसरी दिशा की ओर निकल चुके थे ।उसके बाद वो कभी दिखाई नहीं दिये । आज उनके फोटो के साथ उनकी गुमशुदगी की खबर छपी है अखबार में लिखा है कि सूचना देने वाले को 40 हजार का ईनाम दिया जायेगा ।
असल में उनकी पेंशन भी इतनी ही आती है
पता नही मिलेंगे या नही…
– संकलित –

Language: Hindi
Tag: कहानी
1 Like · 2 Comments · 351 Views
You may also like:
एक ठोकर क्या लगी..
एक ठोकर क्या लगी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
कितनी खास हो तुम
कितनी खास हो तुम
सोनम राय
हौसला-2
हौसला-2
डॉ. शिव लहरी
चौबीस घन्टे साथ में
चौबीस घन्टे साथ में
Satish Srijan
The Rope Jump
The Rope Jump
Buddha Prakash
बरबादी   का  जश्न  मनाऊं
बरबादी का जश्न मनाऊं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अल्फ़ाज़ मुख़्तसर हैं
अल्फ़ाज़ मुख़्तसर हैं
Dr fauzia Naseem shad
मृत्यु एक जीवन का क्रम है, साधारण घटना है(मुक्तक)
मृत्यु एक जीवन का क्रम है, साधारण घटना है(मुक्तक)
Ravi Prakash
नववर्ष
नववर्ष
Vijay kumar Pandey
चंद अल्फाज़।
चंद अल्फाज़।
Taj Mohammad
मुस्तहकमुल-'अहद
मुस्तहकमुल-'अहद
Shyam Sundar Subramanian
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
*
*"आदिशक्ति जय माँ जगदम्बे"*
Shashi kala vyas
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ఇదే నా తెలంగాణ!
ఇదే నా తెలంగాణ!
विजय कुमार 'विजय'
यू ही
यू ही
shabina. Naaz
कपालभाती के लाभ
कपालभाती के लाभ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कमर दर्द, पीठ दर्द
कमर दर्द, पीठ दर्द
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ आज का शोध
■ आज का शोध
*Author प्रणय प्रभात*
फटेहाल में छोड़ा.......
फटेहाल में छोड़ा.......
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
विचार मंच भाग -8
विचार मंच भाग -8
Rohit Kaushik
पिता की नियति
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
गज़ल
गज़ल
Krishna Tripathi
मिलेगा क्या मुझको तुमसे
मिलेगा क्या मुझको तुमसे
gurudeenverma198
थकते नहीं हो क्या
थकते नहीं हो क्या
सूर्यकांत द्विवेदी
💐प्रेम कौतुक-226💐
💐प्रेम कौतुक-226💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिव स्तुति
शिव स्तुति
मनोज कर्ण
इंक़लाब आएगा
इंक़लाब आएगा
Shekhar Chandra Mitra
पटेबाज़
पटेबाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरे दिल के करीब आओगे कब तुम ?
मेरे दिल के करीब आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
Loading...