Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 14, 2016 · 1 min read

वतन से इश्क करो …….

राष्ट्रहित मै ये जीवन हवन तो करो
जीत जाओगे दिल से जतन तो करो |
मंजिले खुद ब खुद पास आ जाएँगी
इश्क करना ही है तो वतन से करो | — आरसी

160 Views
You may also like:
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
The Magical Darkness
Manisha Manjari
हे गुरू।
Anamika Singh
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
सोंच समझ....
Dr. Alpa H. Amin
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
संघर्ष
Arjun Chauhan
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
झूला सजा दो
Buddha Prakash
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार "कर्ण"
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
लिखे आज तक
सिद्धार्थ गोरखपुरी
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार करके।
Taj Mohammad
तुम कहते हो।
Taj Mohammad
जग के पिता
DESH RAJ
Loading...