Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2016 · 1 min read

वतन से इश्क करो …….

राष्ट्रहित मै ये जीवन हवन तो करो
जीत जाओगे दिल से जतन तो करो |
मंजिले खुद ब खुद पास आ जाएँगी
इश्क करना ही है तो वतन से करो | — आरसी

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
229 Views
You may also like:
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहा
नवल किशोर सिंह
गणपति वंदना
Dr Archana Gupta
योद्धा कवि
Shekhar Chandra Mitra
गोपालक श्रीकृष्ण: कुंडलिया
Ravi Prakash
🙏माँ कूष्मांडा🙏
पंकज कुमार कर्ण
छोटे गाँव का लड़का था मैं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
एक चुनाव हमने भी लड़ा था
Suryakant Chaturvedi
शब्दों को गुनगुनाने दें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पग पग में विश्वास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
समय की गर्दिशें चेहरा बिगाड़ देती हैं
Dr fauzia Naseem shad
कबूल करना मेरे श्याम
Seema 'Tu hai na'
Subject- मां स्वरचित और मौलिक जन्मदायी मां
Dr Meenu Poonia
होता नहीं अब मुझसे
gurudeenverma198
Writing Challenge- समाचार (News)
Sahityapedia
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
ज़मीं पे रहे या फलक पे उड़े हम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम का दीप जलाया जाए
अनूप अंबर
वो ही शहर
shabina. Naaz
कहानी,✍️✍️
Ray's Gupta
" चंद अश'आर " - काज़ीकीक़लम से
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बाल दिवस पर विशेष
Vindhya Prakash Mishra
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बोली समझी जा रही
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
बाल कहानी- रोहित
SHAMA PARVEEN
बुढ़ापा
Alok Vaid Azad
🌈🌈प्रेम की राह पर-66🌈🌈
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️"नंगे को खुदा डरे"✍️
'अशांत' शेखर
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...