Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 16, 2016 · 1 min read

वक्त

ये तो वक्त -वक्त की बात है
कभी मिलता है ,तो कभी मिलाता है
कभी खा़मोश सा बैठाता है
कभी कहकहे लगवाता है
तो कभी अनायास ही रुलाता है
कभी उलझे रिश् को सुलझाता है
तो कभी खुद को खुद ही से लडाता
और , गुजरते-गुजरते
दे जाता है ज़बीं पे लकीरें कुछ
साथ में बहुत कुछ सिखा भी देता है
अच्छा -बुरा बस गुज़र ही जाता है

2 Comments · 295 Views
You may also like:
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिन्दगी खर्च हो रही है।
Taj Mohammad
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
पिता हैं नाथ.....
Dr. Alpa H. Amin
रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
Ravi Prakash
न्याय का पथ
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम हो
Alok Saxena
उसको बता दो।
Taj Mohammad
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
💐तर्जुमा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम की परिभाषा
Nitu Sah
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
तेरा प्यार।
Taj Mohammad
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️वो भूल गये है...!!✍️
"अशांत" शेखर
Loading...