Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 18, 2022 · 1 min read

वक्त

वक्त वक्त की बात जग में
कभी दुःख तो कभी खुश
कभी कोई गरीब तो अमीर
बदलते रहता वक्त सर्वथा ।

वक्त वक्त का खेल है आज
जो करता जितना परिश्रम
उसको मिलता उतना फल
ये वक्त हमेशा बदलते रहता ।

मुद्दत कभी भी आपका
रहता है निकृष्ट तो कभी
न होना चाहिए तटस्थ हमें
वक्त बदलते रहता हमेशा ।

अधम वक्त से हमें कभी भी
विचलित, अधीर न होना है,
हेय वक्त में ही हम सबों को
होती अपनों की पहचान है।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

139 Views
You may also like:
लिपट कर तिरंगे में आऊं
AADYA PRODUCTION
एक किताब लिखती हूँ।
Anamika Singh
✍️सरहदों के गहरे ज़ख्म✍️
'अशांत' शेखर
सितारे बुलंद थे मेरे
shabina. Naaz
कब आओगे
dks.lhp
नई तकदीर
मनोज कर्ण
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
मुख पर तेज़ आँखों में ज्वाला
Rekha Drolia
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
" ठंडी ठंडी ठंडाई "
Dr Meenu Poonia
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
"अशांत" शेखर भाई के लिए दो शब्द -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
^^मृत्यु: अवश्यम्भावी^^
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वेवफा प्यार
Anamika Singh
मन
Pakhi Jain
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
सावन में एक नारी की अभिलाषा
Ram Krishan Rastogi
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कौन समझाए।
Taj Mohammad
मेरे दिल
shabina. Naaz
The shade of 'Bodhi Tree'
Buddha Prakash
महताब ने भी मुंह फेर लिया है।
Taj Mohammad
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
✍️बेसब्र मिज़ाज✍️
'अशांत' शेखर
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
Loading...