Aug 30, 2016 · 1 min read

वक्त ✍✍

***वक्त तुझे रास ना आया
मेरा मुस्कराना इठलाना
जब भी मिला कोई मीत
तुझे आया दीवार बनाना
वक्त तुझे—————–

मैं छुईमुई सा मुरझा गया
ना रास आया मेरा खिलना
जब मिला कोई प्रेम पर्थिक
तुझे आया अंगारे सुलगाना
वक्त तुझे———————

मैं पहले ही किस्मत का मारा
क्यों तूने भविष्य जला दिया
जब मिला बिछुडा प्यार मेरा
तूने बस पलीता सुलगा दिया
वक्त तुझे———————-

मैं मुड-मुड कर देखता रहा
वापस यूँ आने की राह तेरी
वक्त तू कल्प लम्बे करता रहा
मौत का इन्तजाम कर मेरी
वक्त तुझे———————

समझ खिलौना वक्त खेलता
मार थपेड़े गिरा मुझे उठाता
सबक देकर मुझको सिखाता
मैं बुद्धू सा भौचक रह जाता
वक्त तुझे———————–

डॉ मधु त्रिवेदी

73 Likes · 221 Views
You may also like:
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
उसूल
Ray's Gupta
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
न्याय का पथ
AMRESH KUMAR VERMA
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
हे गुरू।
Anamika Singh
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
Loading...