Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 6, 2022 · 1 min read

वक्त का खेल

भास्कर बनने के लिए हमें
तपना पड़ेगा प्रज्वलित में
श्रम के पश्चात होती जय
वक्त को तू मत कर स्तब्ध ।

जो पढ़ाई लिखाई के वक्त में
न पढ़के करता ऐश-ओ-मोज
तृण उसे करती हमेशा बर्बाद
वक्त-वक्त का खेल इस भव में ।

वक्त – वक्त का खेल है आज
एक जैसा न रहता बार हमेशा
कभी उत्पीड़न तो कभी प्रसन्न
अरसा हमेशा होते रहे तबदीली ।

उल्टा के देख प्रसिद्धवान की इति
आज जो भव में चमकता सितारा
उनका भी एक विलंब निकृति का
श्रम, तपस्या के बल चमकते आज ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

1 Like · 115 Views
You may also like:
मां
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
हम तेरे रोकने से
Dr fauzia Naseem shad
💐भगवत्कृपा सर्वेषु सम्यक् रूपेण वर्षति💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवनदाता वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
कभी मेहरबां।
Taj Mohammad
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
भगवान सा इंसान को दिल में सजा के देख।
सत्य कुमार प्रेमी
उनका लिखा कलाम सा लगता है।
Taj Mohammad
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
आरजू
Kanchan Khanna
कमी मेरी तेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
BADA LADKA
Prasanjeetsharma065
✍️कृपया पुरुस्कार डाक से भिजवा दो!✍️
'अशांत' शेखर
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
बद्दुआ गरीबों की।
Taj Mohammad
जीवन संगीत
Shyam Sundar Subramanian
धरा करे मनुहार…
Rekha Drolia
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का...
Ravi Prakash
मेहनत का फल
Buddha Prakash
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
“ लूकिंग टू लंदन एण्ड टाकिंग टू टोकियो “
DrLakshman Jha Parimal
"एक अत्याचार"
पंकज कुमार "कर्ण"
हुस्न में आफरीन लगती हो
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...