Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2022 · 1 min read

वक्त मलहम है।

वक्त मलहम है यूँ तो हर ज़ख्म के लिए।
क्या हुआ गर ऐसे दूर वह हमसे हो गये है।।
इतना भी वो हमको यूँ याद आतें नहीं है।
जो अब ज़िंदगी के गुज़रे पल से हो गये है।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

1 Like · 83 Views
You may also like:
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
I could still touch your soul every time it rains.
Manisha Manjari
सीख
Anamika Singh
स्पर्धा भरी हयात
AMRESH KUMAR VERMA
✍️लौटा हि दूँगा...✍️
'अशांत' शेखर
ना मायूस हो खुदा से।
Taj Mohammad
*"याचना"*
Shashi kala vyas
*फल- राजा कहलाता आम (गीतिका)*
Ravi Prakash
✍️✍️असर✍️✍️
'अशांत' शेखर
कोशिश
Anamika Singh
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
*हम आजाद होकर रहेंगे (कहानी)*
Ravi Prakash
✍️✍️शिद्दत✍️✍️
'अशांत' शेखर
✍️इत्तिहाद✍️
'अशांत' शेखर
आजमाते रहिए
shabina. Naaz
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
✍️कथासत्य✍️
'अशांत' शेखर
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिन्दगी की अहमियत।
Taj Mohammad
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
अरदास
Buddha Prakash
آج کی رات ان آنکھوں میں بسا لو مجھ کو
Shivkumar Bilagrami
शहीद की आत्मा
Anamika Singh
Fast Food
Buddha Prakash
आप कौन है
Sandeep Albela
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
Loading...