Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 8, 2017 · 1 min read

== वक्त को पहचान लिया हमने ==

तेरे गरूर को तो करके यूँ टुकड़े-टुकड़े,
हमने भी तेरे उस भरम को तोड़ना शुरू कर दिया।
समय ने भी शुरू किये अपने तेवर बिखेरने
मैंने भी तुमसे कुछ न कहना शुरू कर दिया।
आंखें ही फेर डाली जबसे तुमने देख मुझे,
मैंने भी बेमतलब तुमको मनाना बंद कर दिया।
तूने एक गज की दूरी क्या दिखाई हमको,
हमने सौ गज दूर तुम से रहना शुरू कर दिया।
तुमने बस एक बार किया किनारा हमसे ,
हमने तेरे साये से भी दूर रहना शुरू कर दिया।
मेरा अपनापन जताना भी जब खटका तुमको ,
हमने उस पल से ही चुप रहना शुरू कर दिया।
जब से चुराई हैं तुमने सरे आम आंखें,
हम ने सरे राह तुझे अनदेखा करना शुरू कर दिया।
तुम क्या समझाओगे वक्त की पहचान हमें,
समय और हालात ने हमें सब समझाना शुरू कर दिया।
एक बे मुरव्वत बेपरवाह अपने के बजाय,
बिना अपनों के हमने तो जीना शुरू कर दिया।
——रंजना माथुर दि. 01/07/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

195 Views
You may also like:
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनमोल राजू
Anamika Singh
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...