Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2022 · 1 min read

वक्त को कब मिला है ठौर

चल रहा है दुनिया में, तेजी से बदलाव का दौर
पर वक्त को भी बदलने में, वक्त लगेगा और
जहां आप वैठे हैं, वक्त के साथ वैठेगा कोई और
वक्त के साथ बदल जाता है,हर एक नया दौर
नहीं गिनती न इतिहास कोई, मिलता नहीं ओर छोर
वक्त का काम है चलना, वक्त को कब मिला है ठौर

4 Likes · 2 Comments · 130 Views
You may also like:
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
तीन किताबें
Buddha Prakash
अपनी हर श्वास को
Dr fauzia Naseem shad
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेरूखी
Anamika Singh
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
Security Guard
Buddha Prakash
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
सिर्फ तुम
Seema 'Tu hai na'
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबू जी
Anoop Sonsi
वक़्त को वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...