Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 30, 2021 · 1 min read

वक़्त

हर लम्हा तुझसे यह कहता रहा।

गुजार लो जो मिला है वक़्त किस्मत से।

वक़्त का सितम है बहुत तकलीफ नुमा।

अगर चला गया तो ये न तेरा रहेगा न मेरा।

____________________________________
____________________________________

“समीर”

229 Views
You may also like:
किस क़दर।
Taj Mohammad
और मैं .....
AJAY PRASAD
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
✍️दो आँखे एक तन्हा ख़्वाब✍️
"अशांत" शेखर
आख़िरी मुलाकात
N.ksahu0007@writer
हे महाकाल, शिव, शंकर।
Taj Mohammad
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कारगिल फतह का २३वां वर्ष
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गाँव की स्थिति.....
Dr.Alpa Amin
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
In my Life.
Taj Mohammad
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
वक्त को कब मिला है ठौर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️मनस्ताप✍️
"अशांत" शेखर
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
मेरी हस्ती
Anamika Singh
,बरसात और बाढ़'
Godambari Negi
करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
एक दुखियारी माँ
DESH RAJ
“ सभक शुभकामना बारी -बारी सँ लिय ,आभार व्यक्त करबा...
DrLakshman Jha Parimal
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*** घर के आंगन की फुलवारी ***
Swami Ganganiya
वह मुझे याद आती रही रात भर।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...