May 28, 2020 · 1 min read

वक़्त

है वक़्त
बड़ा बलवान
अविरल
घुमता चक्र
सुबह-ओ-शाम
बनता राजा से रंक
और रंक से राजा

घुमती रहती
जिन्दगी
पहिये सी
ठहरती नहीं
जिन्दगी
जब तक हैं
प्राण
इन्सान में

खोजा
जीरो ( 0)
भारत ने
हुआ फिर
आविष्कार
पहिये का
हुई आसान
जिन्दगी
मिली गति
मानव को

है रिश्ता
पति पत्नी के बीच
एक गाड़ी सा
चले पहिये
बराबरी से
हंसी-खुशी
खट्टी मीठी सी
है जिन्दगी

स्वलिखित
लेखक संतोष श्रीवास्तव भोपाल

1 Like · 1 Comment · 168 Views
You may also like:
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
बहुत कुछ सिखा
Swami Ganganiya
मुक्तक
Ranjeet Kumar
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H.
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
प्यार भरे गीत
Dr.sima
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
जिन्दगी रो पड़ी है।
Taj Mohammad
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
Loading...