Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-523💐

वक़्त नहीं हैं ये अपने पयाम मत करो,
कोई कैसे भी अपने सवालात मत करो,
ये तोहमत तुम्हारे हैं सब संभाल के रखना,
बे-एतिबार के जबाब से इनकार मत करो।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2332.पूर्णिका
2332.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
वो हक़ीक़त
वो हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
मेहनत
मेहनत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
विजय पर्व है दशहरा
विजय पर्व है दशहरा
जगदीश लववंशी
💐प्रेम कौतुक-305💐
💐प्रेम कौतुक-305💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'इरशाद'
'इरशाद'
Godambari Negi
■ टिप्पणी / शब्द संकेत
■ टिप्पणी / शब्द संकेत
*Author प्रणय प्रभात*
पैरासाइट
पैरासाइट
Shekhar Chandra Mitra
👌राम स्त्रोत👌
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब तो आ जाओ कान्हा
अब तो आ जाओ कान्हा
Paras Nath Jha
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Ram Krishan Rastogi
**विकास**
**विकास**
Awadhesh Kumar Singh
** गर्मी है पुरजोर **
** गर्मी है पुरजोर **
surenderpal vaidya
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
Arvind trivedi
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
पागल दास जी महाराज
दिल से मुझको सदा दीजिए।
दिल से मुझको सदा दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
निश्चल छंद और विधाएँ
निश्चल छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
*मैं किसान हूँ : श्री रमेश कुमार जैन  से काव्य पाठ का आनंद*
*मैं किसान हूँ : श्री रमेश कुमार जैन से काव्य पाठ का आनंद*
Ravi Prakash
*भगवान गणेश जी के जन्म की कथा*
*भगवान गणेश जी के जन्म की कथा*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Sakshi Tripathi
सापटी
सापटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आकाश के नीचे
आकाश के नीचे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
Loading...