Jan 17, 2022 · 1 min read

वंचित

तेरी बगिया के
एक पेड़ की डाली पर
एक फूल महका
वह बगिया तेरी थी
पेड़ भी तेरा
उसकी डाल भी तेरी
फूल भी तेरा
उसकी महक भी तेरी
मेरा तो कुछ भी नहीं
इस फूल की महक भी नहीं
हवाओं ने भी तो आजकल
अपना मुंह फेर लिया है
मुझसे
वह भी तो बह रही है
उल्टी दिशाओं में
उन्होंने अपना रूख
लगता है
हमेशा के लिए पलट लिया है
बहकर नहीं आ रही मेरे घर के दरवाजे तक
ताकि मैं फूल की खुशबू से
वंचित रह जाऊं।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

114 Views
You may also like:
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
💐💐प्रेम की राह पर-12💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐ वतन!
Anamika Singh
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
An abeyance
Aditya Prakash
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रेम...
Sapna K S
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
नई तकदीर
मनोज कर्ण
पिता
Madhu Sethi
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
💐💐प्रेम की राह पर-18💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...