Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 14, 2016 · 1 min read

लौट न जाये !

खोल दो हृदय कपाट निर्भय ,

देखो तो कौन आया है ?

कहीं वह लौट न जाये ।

ज़ोर से पुकारो बाहें पसार ,

लुटा दो प्रेम और खुशियाँ ।

था जिसका इंतजार ,

वही आया हो, पर ,

कहीं लौट न जाये ।

133 Views
You may also like:
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
शिव शम्भु
Anamika Singh
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
फूलों का नया शौक पाला है।
Taj Mohammad
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
इंतजार
Anamika Singh
प्रेम की साधना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कनिष्ठ रूप में
श्री रमण
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
लाल टोपी
मनोज कर्ण
✍️बुलडोझर✍️
"अशांत" शेखर
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
महेंद्र जी (संस्मरण / पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
Loading...