लौट कर आओगी

गुजर जाती है हर शाम उस वक्त को याद कर के,
जो वक्त हसीं तो नहीं मगर अपना हुआ करता था,
तुझे खोकर भी इतनी ही शिद्दत से याद है मुझे,
तुझे पाना एक खूबसूरत सपना हुआ करता था।

अब तो जुगनुओं के उजाले भी मुझे नजर नही आते
तेरे सपने यादों के आँचल से शाम-ओ-सहर नहीं जाते

लौट कर आओगी एक दिन यु ही खिलखिलाते हुए,
जैसे मेरी अंजुरी में तितली रुका करती थी,
जैसे दिल के सागर में लहर उठा करती थी,
जैसे तेरी पलकों में मेरे आंसू हुआ करते थे,
जैसे तेरी पायल को मेरे गीत छूआ करते थे………

2 Comments · 369 Views
You may also like:
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
इश्क
goutam shaw
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
विसाले यार
Taj Mohammad
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम जो मिल गई हो।
Taj Mohammad
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam मन
श्रृंगार
Alok Saxena
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
तेरे संग...
Dr. Alpa H.
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नदियों का दर्द
Anamika Singh
हर रोज योग करो
Krishan Singh
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
Loading...