Sep 1, 2016 · 1 min read

लौटा लायेंगी तुम्हे

समझा देंगे यादों को न रुलायेंगी तुम्हे
करना न गिला फिर न बुलायेंगी तुम्हे
****************************
मेरा तुम्हारा अब ख़ुदा निगेहबाँ हमदम
देखना इक रोज यही लौटा लायेंगी तुम्हे
****************************
कपिल कुमार
01/09/2016

119 Views
You may also like:
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
# हे राम ...
Chinta netam मन
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H.
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
हमारी जां।
Taj Mohammad
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H.
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
धरती की फरियाद
Anamika Singh
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
वसंत का संदेश
Anamika Singh
एक संकल्प
Aditya Prakash
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H.
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
लत...
Sapna K S
अजीब कशमकश
Anjana Jain
# मां ...
Chinta netam मन
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
Loading...