Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 25, 2019 · 2 min read

लौटा दो बच्चों का बचपन – 60+ को समर्पित

सुबह से दोपहर हो गई थी झुरियों से भरे चेहरे वाला मदारी डमरू बजाते हुए घूम रहा था पर उसको शहर में एक जगह भी बच्चों का हुजूम नहीं दिखा था जहाँ वह बन्दर बंदरिया का खेल दिखा कर , कुछ पैसे इकट्ठे कर सके । कई जगह तो शौर होने का वास्ता दे कर , उसे दुत्कार कर भगाया भी गया ।
वह खुद ही बडबडाते हुए आगे बढ़ गया :
” आजकल शहरों के बच्चे तो मोबाइल पर ही खेल देखते रहते है , घर से बाहर निकलते ही नहीं है । बचपन क्या होता है ? उन्हें मालूम ही नहीं है । खैर ”

अब वह झुग्गियो के पास आ गया । कई बच्चे उसके पीछे पीछे आ गये ।
एक जगह उसने खेल दिखाना शुरू किया , बच्चे ताली बजा बजा कर खुश होने लगे । वहाँ बंदर बंदरिया भी खूब मस्ती से एक के बाद एक खेल दिखा रहे थे । अब एक खेल में बंदरिया, बंदर से रूठ कर मायके आ गयी थी , बंदर लेने गया था , उसने बंदरिया को खूब मनाया लेकिन वह नहीं मान रही थी तब बंदर को गुस्सा आ गया और उसने मदारी के हाथ से डंडा छीन लिया और बंदरिया डर कर बंदर के साथ जाने के लिए तैयार हो गयी ।
इस खेल से रमिया को शर्म आ गयी , एक बार उसके साथ भी ऐसा ही हुआ था , बाकी औरतें भी कहीं न कहीं इन कहानियों से अपने को जोड़ रही थी ।
इस बीच घर की औरतें कोई रोटी सब्जी, कोई एक दो रूपये ले कर आ गयी ।
अब मदारी ने सब सामान बटौरा और घर चल दिया ।साथ ही उसने हाथ जोड़ कर आसमान की तरफ देखा और बोला :
” या खुदा बच्चों का बचपन लौटा दे” और बंदर बंदरिया ने भी आसमान की तरफ देख कर ” आमीन” कहा ।”

स्वलिखित
लेखक
संतोष श्रीवास्तव
भोपाल

2 Likes · 162 Views
You may also like:
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
मुस्कुराहट का नाम है जिन्दगी
Anamika Singh
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
एहसास में बे'एहसास की
Dr fauzia Naseem shad
काँटा और गुलाब
Anamika Singh
कब तुम?
Pradyumna
पावस
लक्ष्मी सिंह
ख्वाब को बाँध दो
Anamika Singh
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
बन कर शबनम।
Taj Mohammad
"दोस्त"
Lohit Tamta
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जग
AMRESH KUMAR VERMA
किसी दिन
shabina. Naaz
“ हृदयक गप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
वो महक उठे ---------------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
लोकमाता अहिल्याबाई होलकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️✍️नासूर दर्द✍️✍️
'अशांत' शेखर
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
✍️हार और जित✍️
'अशांत' शेखर
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️बचा लेना✍️
'अशांत' शेखर
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
Loading...