Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2023 · 1 min read

लोरी (Lullaby)

तहार पापा आवत होइहें
गुड्डा-गुड़िया लावत होइहें
तू प्यारा सपना में खोजा
हमार बिटिया तबले सोजा-२
(१)
आज काहे एतना रोवेलू
तू आपन गाल भिंगोवेलू
ई आंसू हअ सच्चा मोती
झूठ में एकरा के खोवेलू
तहार पापा आवत होइहें
लड्डू-पेड़ा लावत होइहें
तू मीठा सपना में खोजा
हमार बिटिया तबले सोजा-२
(२)
छोटा-बड़ा सगरी बात पर
एतना जीद भी ठीक नाहीं
चलअ-चलअ अब तू हंस दअ
एतना खीस भी ठीक नाहीं
तहार पापा आवत होइहें
घाघरा-चोली लावत होइहें
तू सुंदर सपना में खोजा
हमार बिटिया तबले सोजा-२
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#baby #लोरी #bollywood
#शिशु #song #नींद #girls
#sleeping #beauty #lullaby
#lyricist #गीतकार #कवि #मां

Language: Bhojpuri
Tag: गीत
80 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
आज का बालीवुड
आज का बालीवुड
Shekhar Chandra Mitra
निर्बल होती रिश्तो की डोर
निर्बल होती रिश्तो की डोर
Sandeep Pande
प्रेम की अनिवार्यता
प्रेम की अनिवार्यता
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
उद् 🌷गार इक प्यार का
उद् 🌷गार इक प्यार का
Tarun Prasad
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
"सपनों का संसार"
Dr. Kishan tandon kranti
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
राम दर्शन
राम दर्शन
Shyam Sundar Subramanian
अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
'अशांत' शेखर
*आने-जाने का दुनिया में सदा सर्वदा क्रम है (मुक्तक)*
*आने-जाने का दुनिया में सदा सर्वदा क्रम है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
💐प्रेम कौतुक-247💐
💐प्रेम कौतुक-247💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जग जननी
जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
काश हम बच्चे हो जाते
काश हम बच्चे हो जाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
मन खामोश है
मन खामोश है
Surinder blackpen
बिखरा था बस..
बिखरा था बस..
Vijay kumar Pandey
पीड़ा की मूकता को
पीड़ा की मूकता को
Dr fauzia Naseem shad
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
गंदा है क्योंकि अब धंधा है
गंदा है क्योंकि अब धंधा है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
रूठी बीवी को मनाने चले हो
रूठी बीवी को मनाने चले हो
Prem Farrukhabadi
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा मुसाफिर
पिता
पिता
Buddha Prakash
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
manisha
Loading...