Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2023 · 1 min read

लोरी (Lullaby)

तहार पापा आवत होइहें
गुड्डा-गुड़िया लावत होइहें
तू प्यारा सपना में खोजा
हमार बिटिया तबले सोजा-२
(१)
आज काहे एतना रोवेलू
तू आपन गाल भिंगोवेलू
ई आंसू हअ सच्चा मोती
झूठ में एकरा के खोवेलू
तहार पापा आवत होइहें
लड्डू-पेड़ा लावत होइहें
तू मीठा सपना में खोजा
हमार बिटिया तबले सोजा-२
(२)
छोटा-बड़ा सगरी बात पर
एतना जीद भी ठीक नाहीं
चलअ-चलअ अब तू हंस दअ
एतना खीस भी ठीक नाहीं
तहार पापा आवत होइहें
घाघरा-चोली लावत होइहें
तू सुंदर सपना में खोजा
हमार बिटिया तबले सोजा-२
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#baby #लोरी #bollywood
#शिशु #song #नींद #girls
#sleeping #beauty #lullaby
#lyricist #गीतकार #कवि #मां

Language: Bhojpuri
Tag: गीत
327 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"इश्क़ की गली में जाना छोड़ दिया हमने"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
*खो दिया सुख चैन तेरी चाह मे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
झूठी है यह सम्पदा,
झूठी है यह सम्पदा,
sushil sarna
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक चतुर नार
एक चतुर नार
लक्ष्मी सिंह
*तेरी याद*
*तेरी याद*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
आत्मवंचना
आत्मवंचना
Shyam Sundar Subramanian
अकिंचित ,असहाय और निरीह को सहानभूति की आवश्यकता होती है पर अ
अकिंचित ,असहाय और निरीह को सहानभूति की आवश्यकता होती है पर अ
DrLakshman Jha Parimal
बीन अधीन फणीश।
बीन अधीन फणीश।
Neelam Sharma
वक्त के इस भवंडर में
वक्त के इस भवंडर में
Harminder Kaur
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रेस कांफ्रेंस
प्रेस कांफ्रेंस
Harish Chandra Pande
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ वही हालात बेढंगे जो पहले थे वो अब भी हैं।
■ वही हालात बेढंगे जो पहले थे वो अब भी हैं।
*प्रणय प्रभात*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
पूर्वार्थ
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
हिन्दी
हिन्दी
Bodhisatva kastooriya
3162.*पूर्णिका*
3162.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"शब्दों का संसार"
Dr. Kishan tandon kranti
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
REVATI RAMAN PANDEY
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
बेवफाई की फितरत..
बेवफाई की फितरत..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चुनावी घनाक्षरी
चुनावी घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
World Books Day
World Books Day
Tushar Jagawat
Loading...