Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 18, 2022 · 1 min read

लोभ का जमाना

आज लोभ का जमाना
पदार्पण कर चुका कब !
कांक्षा के कारण ही हमें
करता कोई हमें अवलंब ।

आज के इस जहान में
तृषा की संख्या बढ़ गई
अपनी हद के लिए हम
कर देते क्षति किसी की।

आज निरंतर मानुष अब
धन – दौलतो के ही चलते
हो रहे लिप्सा मौकापरस्त
सदा रहे इनसे पृथक हम ।

आज मानव कई चीजों
धन- दौलत, भोग-विलास
सबके लिए करते स्पृह
कभी भी न करें तृष्णालु ।

आज देखो लोगों का खेल
श्रम करना न चाहता कोय
फरेब करके के वो हमेशा
करता रहता धन को अर्जित ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

165 Views
You may also like:
प्रश्न पूछता है यह बच्चा
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
अच्छा किया तुमने।
Taj Mohammad
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
जिन्दगी
Anamika Singh
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
उसकी मासूमियत
VINOD KUMAR CHAUHAN
हौंसलों की कमी नहीं लेकिन ।
Dr fauzia Naseem shad
तेरी खैर मांगता हूं।
Taj Mohammad
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
क्यों मेरा
Dr fauzia Naseem shad
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
💐💐परमात्मा इन्द्रियादिभि: परेय💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महादेवी वर्मा जी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
आसमाँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
कितनी बार लड़ हम गए
gurudeenverma198
✍️हद ने दूरियां बदली✍️
'अशांत' शेखर
✍️जिंदगी का बोझ✍️
'अशांत' शेखर
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
ज़िंदगी आईने के जैसी है
Dr fauzia Naseem shad
भोरे
spshukla09179
गिरवी वर्तमान
Saraswati Bajpai
दिल का करार।
Taj Mohammad
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
कभी जमीं कभी आसमां बन जाता है।
Taj Mohammad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अच्छा मित्र कौन ? लेख - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
जश्न आजादी का
Kanchan Khanna
Loading...