Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

लोग क़रीब बुलाते है क्यों

लोग क़रीब बुलाते है क्यों
क़रीब बुलाकर दूर चले जाते है क्यों

ख़्वाब दिखा कर झूठे
हक़ीक़त में तोड़ जाते है क्यों

जब मरहम लगाना नही आता
तो जख्म दे जाते है क्यों

एहसान जताना ही था तो
एहसान में अपने दबाते है क्यों

आसमाँ से फ़लक तोड़ने की बाते कर
वादों से मुकर जाते है क्यों

अपना बता कर नींद में
पराया बना जाते है क्यों

सफर का हमसफ़र बनकर
राह में तन्हा छोड़ जाते है क्यों

बरसात के मौसम में
तिश्रगी बढाते है क्यों

बुझी हुई आग की आंच में
घी डाल कर अब भड़काते है क्यों

अपना बनाकर अक्सर
गैर हमको बताते है क्यों

आब की जुस्तज़ू में अब
तिश्रगी बढाते है क्यों

भूपेन्द्र रावत
12।09।3027

1 Like · 178 Views
You may also like:
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Dr. Kishan Karigar
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कशमकश
Anamika Singh
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...