Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author

✍️लोग जमसे गये है।✍️

✍️लोग जमसे गये है।✍️
———————————————————–//
दुनियां को जीतकर मैं घर में हार जाता हूँ।
उन्हें खुशिया देने,मैं हर दर्द के पार जाता हूँ।।

जुबाँ जुबाँ में सिर्फ कड़वाहट ही मिलती है।
सोचा थोड़े निम के पेड़ यहाँ बोकर जाता हूँ।।

यहाँ लफ्ज़ो के काँटे हर कोई चुभाता दिल में।
कुछ बडे है,वो बबूल के पेड़ तोड़कर जाता हूँ।।

नजाने कहाँ से बहता है ये पीड़ा का सैलाब।
इस शहर को प्रेम के नहर से जोड़कर जाता हूँ।।

यहाँ की हवाँ बड़ी सर्द है,लोग जमसे गये है।
चलो उनके लिये मैं ख़ुद होके अंगार,जाता हूँ।।
————————————————————–//
✍️”अशांत”शेखर✍️
07/06/2022

5 Likes · 8 Comments · 152 Views
You may also like:
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
प्राकृतिक उपचार
Vikas Sharma'Shivaaya'
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
'चाँद गगन में'
Godambari Negi
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
'अशांत' शेखर
Father's Compassion
Buddha Prakash
एक दुखियारी माँ
DESH RAJ
गम होते हैं।
Taj Mohammad
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
BADA LADKA
Prasanjeetsharma065
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
ऋतुराज का हुआ शुभारंभ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
✍️इश्तिराक✍️
'अशांत' शेखर
✍️फ़रिश्ता रहा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
तीन शर्त"""'
Prabhavari Jha
टूटता तारा
Anamika Singh
नजर तो मुझको यही आ रहा है
gurudeenverma198
शिक्षित बने ।
Buddha Prakash
मानवता
Dr.sima
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
रिश्तों की अहमियत को न करें नज़र अंदाज़
Dr fauzia Naseem shad
✍️हमसे लिपट गये✍️
'अशांत' शेखर
Loading...