Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़

‘जर्जरकती’ मासिक के जनवरी-1997 अंक में प्रकाशित लोककवि स्व. रामचरन गुप्त की रचनाएं युगबोध की जीवन्त रचनाएं हैं। हर लोककवि की कविता में आमजन लोकभाषा में बोलता है। ये कविताएं तथाकथित बुद्धिजीवी कहे जाने वाले लोगों की रचनाओं से सदैव भिन्न रही हैं, लेकिन ऐसी रचनाओं से कहीं बेहतर हैं।
लोककवि लोकभाषा में प्रचलित गायन शैलियों का बेताज बादशाह होता है। रसिया, मल्हार, दोहा, होली, स्वांग, वीर और फिल्मी घुनों में आमजन की बात लोककवि ही कह सकता है। रामचरनजी भी इससे अछूते नहीं रहे।
श्री गुप्त की रचनाओं के कुछ दृष्टव्य पहलू इस प्रकार हैं- एक निर्धन अपने बच्चे को पढ़ा न सकने की पीड़ा को यूं व्यक्त करता है-
ऐरे! एक चवन्नी हू जब नायें अपने पास, पढ़ाऊँ कैसे छोरा कूँ।
लोक कवि का यह आव्हान देखिए-
जननी! जनियो तौ जनियो एैसौ पूत, ऐ दानी हो या सूरमा।
मल्हार की गायकी के माध्यम से पूर्व प्रधानमंत्री पण्डित जवाहर लाल नेहरू की मृत्यु को देश की पीड़ा के रूप में कवि स्वीकारता है-
‘‘सावन सूनौ नेहरू बिन है गयौ जी।’’
देश-प्रेम, गुप्तजी का प्रिय विषय है। चीन और पाकिस्तान जैसे देशों की नीचता की सही की सही पकड़ उनकी कविता में है-
चाउ-एन-लाई बड़ौ कमीनौ भैया कैसी सपरी।
अथवा
सीमा से तू बाहर हैजा ओ चीनी मक्कार
नहीं तेरी भारत डारैगो मींग निकार।
या
ओ भुट्टो बदकार रे, गलै न तेरी दार रे।
आनुप्रासिक सौंदर्य भी रचनाओं में भरा पड़ा है जो अनेक प्रकार से परिलक्षित होता है-
भूषण भरि भण्डार भक्तभयभंजन भरने भात चले।
अथवा
दारुण दुःख दुःसहिता दुर्दिन दलन दयालु द्रवित भए।
किसी भी बोली के आम प्रचलित शब्दों का प्रयोग करके लोककवि उन शब्दों को प्रसिद्धि दिलाने में बड़े सहायक का काम करता है यथा रामचरनजी द्वारा प्रयोग किए गए कुछ शब्द-‘मींग, दुल्लर, कण्डी, पनियाढार, गर्रावै, पपइया तथा पटका-पटकी’ आदि।
आज की यह मांग है कि ब्रजक्षेत्र से लुप्त होती इन संगीतमय विधाओं को जागरुक रखने के लिए लोककवि रामचरन गुप्त के काव्य पर विशेष चर्चाएं आयोजित करायी जाएं ताकि मूल्यांकन के साथ-साथ विधाएं भी बनी रह सकें।

184 Views
You may also like:
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
धर्म
Vijaykumar Gundal
और कितना धैर्य धरू
अनामिका सिंह
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण
'नटखट नटवर'(डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
गर तू होता क़िताब।
Taj Mohammad
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
नवगीत
Mahendra Narayan
✍️जिंदगी खुला मंचन है✍️
"अशांत" शेखर
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
గురువు
Vijaykumar Gundal
विनती
अनामिका सिंह
✍️✍️अतीत✍️✍️
"अशांत" शेखर
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
✍️इश्क़ के बीमार✍️
"अशांत" शेखर
हुस्न में आफरीन लगती हो
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
बेवफ़ा कहलाए है।
Taj Mohammad
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
दीपावली
Dr Meenu Poonia
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...