Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#14 Trending Author

लॉक डाउन में गृहणी का जीवन

जान माल की हानि ही नहीं ,
करोना से हुए और भी नुकसान ।
जरा गौर कीजिए इस विषय पर ,
दीजिए कुछ ध्यान ।

करोना की वजह से लॉक डाउन लगा,
स्कूल और दफ्तर हो गए बंद ।
इसके फलस्वरूप पति और बच्चों के घर ,
में रहने से गृहणी हो गई तंग ।

जब गृहणी होगी तंग तो,
स्वाभाविक है गृह कलेश बढ़ेगा ।
पति और बच्चों की अनुशासनहीनता,
से गृहणी का पारा चढ़ेगा ।

कहां तो बेचारी ! सबके घर से चले,
जाने के बाद सुकून पाती थी ।
घर का काम एक बार समेट कर ,
कुछ देर सो लिया / बतिया लिया करती थी ।

मगर अब पति और बच्चों के घर में
रहने से अव्यवस्था बिगड़ने लगी ।
कपड़े ,जूते ,किताबे ,दफ्तर की फाइलों,
की दुकानें २४ घंटे खुलने लगी ।

उसपर से हर घड़ी कमरों से
खाने की फरमाइशें आनी लगी ।
सारा समय बेचारी गृहणी बेचारी ,
रसोई में ही बिताने लगी ।

लॉक डाउन क्या लगा,
लंबी छुट्टी पा गई कामवाली।
खाना बनाने और घर का काम करते हुए ,
गृहणी ही बन गई काम वाली ।

पहले कभी रसोई से छुट्टी पाने हेतु ,
करती थी पति से बाहर जाने की फरमाइश ।
या किसी रेस्तरां ,जोमेटो आदि से ,
पिज्जा बर्गर खाने की पूरी हो जाती ख्वाइश ।

मगर अब क्या करे ? लॉक डाउन ये
यह सुविधाएं भी ले गया ।
रूठ के मायके जाने का ,
यह सुख भी कमबख्त ले गया ।

सहयोग मांगे वे पति और बच्चों से !
अजी छोड़िए ! उनके पास कहां वक्त है!
सारा दिन नजरें गढ़ाए रहते फोन और लैपटॉप में,
किसी ओर को देखने की कहां फुरसत है !

“हे प्रभु ! कृपा कर ये लॉक डाउन हटवा दो,
भेजो पति को दफ्तर और बच्चों को स्कूल ,
ताकि फिर से कुछ देर आराम से सो लें ,
बतिया कर पड़ोसन संग हो जाएं हम भी कूल।”

ऐसी ही होती है लॉक डाउन में ,
हर गृहणी की मनोदशा ।
यदि प्रति दिन करें परिवार जन सहयोग ,
तो क्यों बिगड़े पत्नी/ मां की दशा ।

5 Likes · 6 Comments · 365 Views
You may also like:
पत्थर के भगवान
Ashish Kumar
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
शराफत में इसको मुहब्बत लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
✍️ओर भी कुछ है जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
✍️✍️हादसा✍️✍️
'अशांत' शेखर
✍️खुदाओं के खुदा✍️
'अशांत' शेखर
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
मुस्ताकिल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'धरती माँ'
Godambari Negi
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
बेचैनियाँ फिर कभी
Dr fauzia Naseem shad
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोस्त हो तो ऐसा
Anamika Singh
यह इश्क है।
Taj Mohammad
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
पलटू राम
AJAY AMITABH SUMAN
दो जून की रोटी।
Taj Mohammad
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
धुँध
Rekha Drolia
आज नज़रे।
Taj Mohammad
गांधी : एक सोच
Mahesh Ojha
ये लखनऊ है मेरी जान।
Taj Mohammad
राहत।
Taj Mohammad
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...