Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

लिपटकर हम न साहिल से कभी रोये यहाँ यारो जिये तूफ़ान की जद में हमें आंधी ने पाला है

कहीं है चर्च गुरुद्वारा कहीं मस्जिद शिवाला है
ख़ुदा को भी सभी ने कर यहाँ तक़सीम डाला है

किसी ने आज देखा है मुझे तिरछी नज़र से फिर
मुहब्बत में अदावत की अदा ने मार डाला है

सभी के हाँथ में खंज़र निशाने पर ज़िगर मेरा
रक़ीबों की गली से कल बचा खुद को निकाला है

सफाई लाख दी मैंने मगर उसने नहीं माना
न अपना नाम उसके सँग कभी मैंने उछाला है

गिरे न आँख से आँसू न हो कोई कहीं रुसवा
बहुत रोका किए ख़ुद को बहुत दिल को सँभाला है

कदम आगे नहीं बढ़ते जुबां कुछ कह नहीं पाती
पड़ी है पाँव में बेड़ी लबों पर आज ताला है

उजालों की तमन्ना में यहाँ पथरा गयी आँखें
अँधेरों ने किया जो क़ैद घर घर का उजाला है

नज़र है मंज़िलों पर ही कठिन है रहगुज़र तो क्या
कभी झुक कर नहीं देखा कहाँ किस पाँव छाला है

लिपटकर हम न साहिल से कभी रोये यहाँ यारो
जिये तूफ़ान की जद में हमें आंधी ने पाला है

बहारें रोज़ आती हैं गुलों में रंग भरने को
मगर हर सिम्त गुलशन में ख़िज़ाँ का बोलबाला है

राकेश दुबे “गुलशन”
16-07-2015
बरेली

1 Comment · 382 Views
You may also like:
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
भूल जाते हो
shabina. Naaz
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
पिता
Anis Shah
त'अल्लुक खुद से
Dr fauzia Naseem shad
बंधुआ लोकतंत्र
Shekhar Chandra Mitra
हनुमंता
Dhirendra Panchal
अरदास
Buddha Prakash
घर घर तिरंगा अब फहराना है
Ram Krishan Rastogi
✍️✍️ठोकर✍️✍️
'अशांत' शेखर
अना दिलों में सभी के....
अश्क चिरैयाकोटी
पुराने खत
sangeeta beniwal
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
अब तो सूर्योदय है।
Varun Singh Gautam
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
"श्री अनंत चतुर्दशी"
पंकज कुमार कर्ण
💐प्रेम की राह पर-75💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन की बात 🥰
Ankita
चल रहा वो
Kavita Chouhan
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
पितृ देव
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बख्स मुझको रहमत वो अंदाज़ मिल जाए
VINOD KUMAR CHAUHAN
अग्रोहा धाम हमारा ( गीत)
Ravi Prakash
अल्लादीन का चिराग़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल / ये दीवार गिराने दो....!
*प्रणय प्रभात*
गुरु
Mamta Rani
Loading...