Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#9 Trending Author

लिट्टी छोला

पडरौना के एगो कवि सम्मेलन से हम आ हमार कवि मित्र अवधकिशोर अवधू जी लवटल रहनी जाँ। हमनी के भूख तऽ ना रहे बाकिर कवनो चटपटा व्यंजन के खूशबू जब नाक के जरिये मस्तिष्क में पहुँचल तऽ मन आ जीभ दूनू चटपटाये लागल। अवधू जी कहनी कि ‘ये आकाश जी! चलीं कहीं लिट्टी छोला खाइल जा!’ हम कहनी ‘रउवा से हमहूँ इहे कहल चाहत रहनी हईं।’ हम मोटरसाइकिल एगो लिट्टी चोखा के दोकान के सामने रोक दिहनी। दूनू जाने दोकान में जा के देखनी जाँ तऽ लिट्टी ठंड्हा गइल रहे। अवधू जी कहनी कि ‘रुकीं हम दोसर दोकान देख के आवत बानी।’ कुछ देर बाद ऊहाँ के एगो दोकान देख के अइनी आ कहनी कि ‘चलीं होइजा खाइल जा। काहें कि ओइजा बड़ी भीड़ बा, लोग खाये खातिर तारा-उपरी चढ़ल बा। जरूर बहुते स्वादिष्ट लिट्टी छोला खिआवत होई।’
दूनू जाने वो दोकान पर पहुँच गइनी जाँ बाकिर अन्दर बइठे के तनिको जगहि ना रहे। खाये खातिर अपना बारी के लोग इन्तजार करत रहे, हमनियो के पन्दरे बीस मिनट खड़ा रहेके परल। येह दौरान हमनी के जीव एकदमे चटपटा गइल रहे। आखिरकार जब अवधू जी कई बार कहनी कि ‘हमनी के एकहन पलेट दे दऽ हमनी के येहिजा खड़े खड़े खा लेब जाँ।’ तब जा के कुछ देर बाद हमनी के नसीब में लिट्टी छोला आइल, बाकिर अफसोस कि पहिला चम्मच मुँह में डालते बेहतरीन स्वाद के कल्पना धराशायी हो गइल। छोला में येतना तेल मसाला आ मरिचा रहे कि पूरा मुँह भाम्हाये लागल। अब पछतइला से का होइत, कवनो तरे सुसकार सुसकार के सधवनी जाँ आ मजबूरी में आरो के बोतल में रखल बदबूदार पानी पिअनी जाँ। अइसन हतेयार छोला रहे कि मुँह से ले के पेट तक ले धँधोर फूँकि दिहलस। अवधू जी दोकानदार के पइसा तऽ दे दिहनी, बाकिर हमरा मन में एके गो सवाल गूँजत रहे कि जब येइजा के छोला कवनो गत के नइखे तऽ आखिर येतना भीड़ काहें बा? जब बरदास ना भइल तऽ हम दोकानदार से पुछिये दिहनी कि ‘तहरी दोकान पर येतना भीड़ काहें बा भाई!’ जवाब मिलल- ‘ई सब बुलडोजर बाबा के आशिर्वाद हवे। जहिया से मेन रोड के दूनू बगल के खाये पिये वाला दोकान तुराइल बाड़ी सन तहिये से हमनी के बिक्री कई गुना बढ़ गइल बा।’

संस्मरण- आकाश महेशपुरी
दिनांक- 05/06/2022

157 Views
You may also like:
अनवरत सी चलती जिंदगी और भागते हमारे कदम।
Manisha Manjari
Sweet Chocolate
Buddha Prakash
You are my life.
Taj Mohammad
शाम से ही तेरी याद सताने लगती है
Ram Krishan Rastogi
💐कह भी डालो यार 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#हे__प्रेम
Varun Singh Gautam
दिल से मदद
Dr fauzia Naseem shad
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
🌺🌻प्रेमस्य आनन्द: प्रतिक्षणं वर्धमानम्🌻🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ओ भोले भण्डारी
Anamika Singh
मां ने।
Taj Mohammad
✍️बोन्साई✍️
'अशांत' शेखर
वार्तालाप….
Piyush Goel
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
मानव स्वरूपे ईश्वर का अवतार " पिता "  
Dr.Alpa Amin
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
मौला मेरे मौला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चांद
Annu Gurjar
मेरे दिल को
Shivkumar Bilagrami
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
होली का संदेश
Anamika Singh
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
कच्चे धागे का मूल्य
Seema Tuhaina
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
याद बीते दिनों की - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ईद
Taj Mohammad
Loading...