Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2022 · 1 min read

लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा

गीत

लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
कह लेते हैं थोड़ा थोड़ा
मत मानो तुम हमको कुछ भी
जी लेते हैं थोड़ा थोड़ा।।

दीप शिखा सी जले जिंदगी
खोने कभी और पाने को
बाहर बाहर करे उजाला
अंधियारा सब पी जाने को
मत मानो तुम उसको कुछ भी
जल लेते हैं थोड़ा थोड़ा

बस्ती बस्ती है शब्दों की
पढ़ी इबारत, मंजिल देखी
कुछ अंगारी, कहीं उदासी
आते जाते नस्लें देखीं
मत मानो तुम उनका कहना
पढ़ लेते हैं थोड़ा थोड़ा ।।

अभी वक्त है, थोड़ा सुन लो
अभी वक्त है, थोड़ा बुन लो
पल दो पल की प्राण प्रतिष्ठा
चली चांदनी, चंदा रूठा
मत मानो तुम इसको गहना
सज लेते हैं थोड़ा-थोड़ा ।।

सूर्यकांत द्विवेदी

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 4 Comments · 229 Views
You may also like:
तेरा बस
Dr fauzia Naseem shad
बुंदेली हाइकु- (राजीव नामदेव राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दर्द
Anamika Singh
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
“ एक अमर्यादित शब्द के बोलने से महानायक खलनायक बन...
DrLakshman Jha Parimal
विश्वास मुझ पर अब
gurudeenverma198
✍️ देखते रह गये..!✍️
'अशांत' शेखर
जीना मुश्किल
Harshvardhan "आवारा"
तीन शर्त"""'
Prabhavari Jha
स्वच्छता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
The love will always breathe in as the unbreakable chemistry
Manisha Manjari
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
स्वाबलंबन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेघो से प्रार्थना
Ram Krishan Rastogi
रामपुर में अग्रवालों का इतिहास :-
Ravi Prakash
किस किस को वोट दूं।
Dushyant Kumar
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार कर्ण
#Daily writing challenge , सम्मान ___
Manu Vashistha
अपनो को।
Pradyumna
रिंगटोन
पूनम झा 'प्रथमा'
कस्तूरी मृग
Ashish Kumar
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
आईना
Buddha Prakash
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...