Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 20, 2019 · 1 min read

लिख दूँ

मैं अपना हर दिन तेरे नाम लिख दूँ।
तेरे लिए अपनी दोपहर शाम लिख दूँ।

अब कोई फिक्र न रहे मुझे दुनिया की
मैं तुझे ही अपना हर काम लिख दूँ।

क्या जरूरत अब यहाँ मुझे शराब की
तेरी आँखों के नशे को मैं जाम लिख दूँ।

न कहानी हो कोई न कोई अब छन्द हो
किस्से तेरे नाम के मैं तमाम लिख दूँ।

क्या अदा करूँ तेरा शुक्रिया तू ही बता
मैं अपनी गुलामी को तेरा इनाम लिख दूँ।

4 Likes · 3 Comments · 230 Views
You may also like:
A solution:-happiness
Aditya Prakash
दीपावली
Dr Meenu Poonia
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️बुनियाद✍️
'अशांत' शेखर
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में...
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
हर लम्हा कमी तेरी
Dr fauzia Naseem shad
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
'अशांत' शेखर
जब पिया घर नही आए
Ram Krishan Rastogi
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
समाजसेवा
Kanchan Khanna
मेरी नींदों की
Dr fauzia Naseem shad
पिता हैं नाथ.....
Dr.Alpa Amin
हमारी ग़ज़लों ने न जाने कितनी मेहफ़िले सजाई,
Vaishnavi Gupta
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
BADA LADKA
Prasanjeetsharma065
" अपनी ढपली अपना राग "
Dr Meenu Poonia
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
आ जाओ राम।
Anamika Singh
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
इश्क का दरिया
Anamika Singh
घर-घर में हो बाँसुरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
✍️नशा और शौक✍️
'अशांत' शेखर
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
प्राकृतिक उपचार
Vikas Sharma'Shivaaya'
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दिल्लगी दिल से होती है।
Taj Mohammad
Loading...