Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 22, 2016 · 1 min read

लिख कुछ ऐसे…….

लिख कुछ ऐसे आसमां पर
कि जमीं भी तेरे पैरों में हो
*********************
कायल हों लिखने के सभी
और चर्चे भी तेरे गेरों में हो
*********************
कपिल कुमार
20/07/2016

2 Likes · 107 Views
You may also like:
तुम हो
Alok Saxena
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
गधा
Buddha Prakash
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H. Amin
उसने ऐसा क्यों किया
Anamika Singh
✍️मौत का जश्न✍️
"अशांत" शेखर
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
Is It Possible
Manisha Manjari
💐प्रेम की राह पर-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
दोहावली-रूप का दंभ
asha0963
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
पिता
पूनम झा 'प्रथमा'
धरती की फरियाद
Anamika Singh
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
करते है धन्यवाद.....दिलसे
Dr. Alpa H. Amin
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
उम्मीद से भरा
Dr.sima
Loading...