Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#19 Trending Author

लिखे आज तक

शब्द मैंने तो तुम तक लिखे आज तक
मैंने कुछ एक मुक्तक लिखे आज तक
राहें आसान होतीं तो लिखते और कुछ,
हमने राहों के कंटक लिखे आज तक
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

1 Like · 2 Comments · 118 Views
You may also like:
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H. Amin
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
तरबूज का हाल
श्री रमण
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
पापा
Nitu Sah
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Buddha Prakash
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
✍️कबीरा बोल...✍️
"अशांत" शेखर
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे पापा...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
या इलाही।
Taj Mohammad
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
काश हमारे पास भी होती ये दौलत।
Taj Mohammad
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
पथ पर बैठ गए क्यों राही
Anamika Singh
Loading...