Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 14, 2016 · 1 min read

लिखदूं कुछ अलफ़ाज़ में यूँ जो पढे तू मेरी हो जाए ।

लिखदूं कुछ अलफ़ाज़ में यूँ
जो पढे तू मेरी हो जाए ।
तनहा दुनिया से बेफिक्र हो
रख काँधे सर तू सो जाए ।
लिखदूं कुछ अलफ़ाज़ में यूँ
जो पढे तू मेरी हो जाए ।

कुछ बातें तूने खुद से की
कुछ बातें मैंने मुझसे की
क्यों ना कुछ थोड़ी बातें
एक दूजे से भी हो जाए ।
लिखदूं कुछ अलफ़ाज़ में यूँ
जो पढे तू मेरी हो जाए ।

कपिल जैन

378 Views
You may also like:
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
*"पिता"*
Shashi kala vyas
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
देश के नौजवानों
Anamika Singh
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरे पापा
Anamika Singh
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
Loading...