Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

ला सकती है तो ला बेटी वापिस देश की पहचान को

प्रेम वासना में फर्क जानिए
एक नहीं आकार
प्रेम तो है अमूल्य रचना प्रभु की
वासना तो नीच प्रहार

चमड़ी प्रदर्शन में जुटी देश की बेटी
प्यार को लव बना बैठी
जो प्रेम के चर्चे थे किस्सों में
उसका शव बना बैठी

अंग प्रदर्शन अब है उसका गहना
कोई नहीं सुनती इस सच को बहना

रोता भाई ये खून के आंसू है
जब जीन्स टॉप पर वो मरती है
संस्कृति को लगा रही है दाग
सूट सलवार को लगा दी उसने आग

थोड़ी बहुत सुनने की ताकत थी जो बेटी में
वो नकली खुराको और नौकरियों ने खो दी है
खुद नग्नता नहीं सम्भले क्या सिखाये बेटी को
ऐसी बीज माँ ने बो दी है

गिरते हैं आंसू में मोती जो बेटी तेरे लिए
बचा ले देश के पहनावे को
सूट सलवार देश का गहना
मत स्वीकार जीन्स टॉप के बहकावे को

4 लडकों ने तेरी नग्नता पर जो व्यंग्य किया
सोच क्या जीत लिया

पर सूट सलवार में जो भी तुझ पर लिखेगा
युगों युगों तक गाया जायेगा
होने वाले मां बाप बेबस इस जग में बेटी
तुझे अब उनसे न समझाया जायेगा

कर तरक्की खूब ओ बेटी , पर न लगा कलंक देश की आन को
ला सकती है तो ला बेटी , वापिस देश की पहचान को

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 271 Views
You may also like:
हे ईश्वर क्या मांगू
Anamika Singh
हर्षवर्धन महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कफस में जिन्दगी ना सांस ए आजादी लेती है।
Taj Mohammad
ऐसे ना करें कुर्बानी हम
gurudeenverma198
जीवन
Mahendra Narayan
बेटियाँ
Shailendra Aseem
*पायल बिछुआ टीका नथनी, कुंडल चूड़ी हार (हिंदी गजल/ गीतिका...
Ravi Prakash
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
ज़िंदगी पर लिखे शेर
Dr fauzia Naseem shad
मनमोहन मुरलीवाला(10मुक्तकों का माला)
लक्ष्मी सिंह
" आशा की एक किरण "
DrLakshman Jha Parimal
चौपाई - धुँआ धुँआ बादल बादल l
अरविन्द व्यास
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
Ravi Malviya
Dear Mummy ! Dear Papa !
Buddha Prakash
मीडिया की जवाबदेही
Shekhar Chandra Mitra
✍️किसी रूठे यार के लिए...
'अशांत' शेखर
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Waqt
ananya rai parashar
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रक्तरंजन से रणभूमि नहीं, मनभूमि यहां थर्राती है, विषाक्त शब्दों...
Manisha Manjari
एक पत्नि की मन की भावना
Ram Krishan Rastogi
हे जग जननी !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
अब अरमान दिल में है
कवि दीपक बवेजा
Loading...