Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

लाज बचा ले मेरे वीर

लाज बचा ले मेरे वीर

क्यों वेदना शुन्य हुई क्यों जड़ चेतन हुआ शरीर
अस्तित्व से वंचित हुआ कँहा खो गया शूरवीर
नही सुनी क्या चीत्कार क्यों सोया है तेरा जमीर
पुकार रही तुझे धरती माता लाज बचा ले मेरे वीर – १

न ले परीक्षा अब मेरे धैर्य की बहुत हुआ अत्याचार
सहनशीलता दे रही चुनौती,कैसे न करू चीखपुकार
मिलकर लूटा जालिमो ने हुई शर्म से मे जीण-क्षीण
पुकार रही तुझे धरती माता लाज बचा ले मेरे वीर – २

लांछन किसके सर मंढू सबी तो ठहरे मेरे लाल
भूल गए क्यों अपनी मर्यादा, जन-मानस बेहाल
कुछ तो लिहाज़ रखो शिष्टता का मत बेचो जमीर
पुकार रही तुझे धरती माता लाज बचा ले मेरे वीर – ३

रक्त रंजीत हु, अपने ही लहू से घायल हुआ बदन
असहाय सी ताकती हु कैसे संवारु फिर से तन-मन
भूल गया क्यों अपनी परिसीमा कँहा गया महावीर
पुकार रही तुझे धरती माता लाज बचा ले मेरे वीर – ४

मै दुखयारी हु बड़ी अभागन जन्मे कैसे सर्वनाशी सपूत
जात धर्म,ऊँच नीच,अमीर गरीब में बटगए सारे कपूत
ह्रदय विदारक दृश्य पनपता,शुष्क नैनों से छलका नीर
पुकार रही तुझे धरती माता लाज बचा ले मेरे वीर -५

फिक्र नही मुझे मेरे असितत्व की डरती हूँ तू क्या पायेगा
आँख गड़ाए दुशमन बैठे है जाने कब तुझको होश आयेगा
शक्ति है गर तुझमे,फिर क्यों मेरा पल-2 होता हरण चीर
पुकार रही तुझे धरती माता लाज बचा ले मेरे वीर – ६

टूट रही हु मैं थक रही हु कैसे झेलू बेटो के शव का बोझ
नेता बन गदारी करते, मुझे तिल-2 वो बेच रहे हर रोज़
किसके आगे दुखड़ा रोउ क्या फुट गयी मेरी तक़दीर
पुकार रही तुझे धरती माता लाज बचा ले मेरे वीर – ७

जग जननी, दुःख हरणी, बिन मांगे देती सुख अपार
ओजस्वनी,तेजस्वनी, लक्ष्मी-दुर्गा कैसी हुई लाचार
देख के देश की हालत मेरा हुआ जाता चित्त अधीर
पुकार रही तुझे धरती माता लाज बचा ले मेरे वीर – ८

कब से आस लगाए बैठी, कब होगा बेटा जवान
मत बन गूंगा मत बन बहरा नहीं अब तू नादान
उठा धनुष चढ़ा प्रत्यंचा,कमान में सजा संपूर्ण तीर
पुकार रही तुझे धरती माता लाज बचा ले मेरे वीर – ९

आ गया वक़्त अब तुझको अपनी माँ का है कर्ज चुकाना
पराक्रम,प्रताप, वीरता, साहस का कौशल अब दिखलाना
धधकती ज्वाला इस माँ के मन में फिर तू राखे काहे धीर
पुकार रही तुझे धरती माता लाज बचा ले मेरे वीर – १०
FacebookTwitterGoogle+PinterestWhatsApp

285 Views
You may also like:
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
मेरे पापा
Anamika Singh
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
अनमोल राजू
Anamika Singh
आतुरता
अंजनीत निज्जर
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...