Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

“लाचार”

सिर्फ जिस्म बेचा उसने,
क्या और भी कुछ बेचना बाकी हैं
तुम सब ने मिलकर नोचा,
क्या और भी नोंचना बाकी हैं,
हा उसकी शायद कोई मजबूरी हो,
दो वक्त की रोटी और दावा जरूरी हो,
फिर तुम कैसे उंगली उठा उठा कर,
जवाब मांगते कि ऐसे काम की क्या जरूरी हैं,
हालात बदल गए उसके भी,
एक पति था जो शराब ने मार दिया,
एक लाडला था,
जो इंसाफ ने मार दिया।
फिर भी नहीं हारी वो,
खुद का रोजगार स्वीकार किया,
फिर किसी की आंखों में खटकी,
बेशर्म ने दुराचार किया,
अब क्या था ?
जीने के लिए खुद को बाजार में किया,
बस अबला की कहानी,
तुम सुनो और जुबां पर लगाम रखो,
लाचार ने क्या किया।
@निल(सागर,मध्य प्रदेश)

1 Like · 4 Comments · 173 Views
You may also like:
जय जय इंडियन आर्मी
gurudeenverma198
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
Yavi, the endless
रवि कुमार सैनी 'यावि'
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
ये दिल फरेबी गंदा है।
Taj Mohammad
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
मां की परीक्षा
Seema 'Tu haina'
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम्हारे शहर में कुछ दिन ठहर के देखूंगा।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज के
Dr fauzia Naseem shad
एहसास पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️सोच पे किसकी पकड़ है..?✍️
'अशांत' शेखर
आग-ए-इश्क का दरिया।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Anis Shah
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो खूबसूरती✍️
'अशांत' शेखर
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
मेरी कलम से किस किस की लिखूँ मैं कुर्बानी।
PRATIK JANGID
अल्फाजों के घाव।
Taj Mohammad
सुरज और चाँद
Anamika Singh
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
मेरे पीछे जमाना चले ओर आगे गन-धारी दो वीर हो!
Suraj Kushwaha
गर्मी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
मेरा इंतजार करना।
Taj Mohammad
Loading...