Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2022 · 1 min read

लांघो रे मन….

जो लाँघी रेखाएँ तो होंगे महायुद्ध
कहते आए वेद पुराण गुणी प्रबुद्ध

पर जो न तोड़ती सीमाएँ
तो बहती कैसे सरिताएँ
सरहदों के पार बहती कैसे
स्वच्छंद चंचल हवाएँ
पंछी कैसे उड़ते नील गगन
उड़ते बादल कैसे संग पवन
किरणें क्या छू पाती धरा
कविता कैसे बनती बताओ ज़रा

तुम भी अपनी हद को तोड़ो
हर सीमा रेखा को मोड़ो
अनपढ़ वाली लकीर लांघो
अत्याचार की दीवार फाँदो
पार करो अपमान की परिधि
मार छलांग वो मेंड़ अनीति
उड़ चलो बन बादल परिंदा
बह निकलो ज्यूँ कविता सरिता

हो कलंकित या फिर खंडित
लांघो रे मन हर रेखा लांघो निश्चित

रेखांकन।रेखा

Language: Hindi
Tag: कविता
55 Views

Books from Rekha Drolia

You may also like:
■ आज का गहन शोध
■ आज का गहन शोध
*Author प्रणय प्रभात*
तेरी अबरू लाजवाब है
तेरी अबरू लाजवाब है
Shiv kumar Barman
✍️ख्वाहिशें जिंदगी से ✍️
✍️ख्वाहिशें जिंदगी से ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तुम इन हसीनाओं से
तुम इन हसीनाओं से
gurudeenverma198
छोड़ जाएंगे
छोड़ जाएंगे
रोहताश वर्मा मुसाफिर
आपकी सोच
आपकी सोच
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जानती हूँ मैं की हर बार तुझे लौट कर आना है, पर बता कर जाया कर, तेरी फ़िक्र पर हमें भी अपना हक़ आजमाना है।
जानती हूँ मैं की हर बार तुझे लौट कर आना...
Manisha Manjari
*अफसर की मुस्कुराहट  (कहानी)*
*अफसर की मुस्कुराहट (कहानी)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी के सारे पृष्ठ
ज़िंदगी के सारे पृष्ठ
Ranjana Verma
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
कवि दीपक बवेजा
सौंधी सौंधी महक मेरे मिट्टी की इस बदन में घुली है
सौंधी सौंधी महक मेरे मिट्टी की इस बदन में घुली...
'अशांत' शेखर
पहाड़ी भाषा काव्य ( संग्रह )
पहाड़ी भाषा काव्य ( संग्रह )
श्याम सिंह बिष्ट
* हे सखी *
* हे सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भगतसिंह की जेल डायरी
भगतसिंह की जेल डायरी
Shekhar Chandra Mitra
"मार्केटिंग"
Dr. Kishan tandon kranti
गुलशन के हर फूल को।
गुलशन के हर फूल को।
Taj Mohammad
अध्यापक क्या है!
अध्यापक क्या है!
Harsh Richhariya
फटेहाल में छोड़ा.......
फटेहाल में छोड़ा.......
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
तकनीकी के अग्रदूत राजीव गांधी का शिक्षा के प्रति दृष्टिकोण
तकनीकी के अग्रदूत राजीव गांधी का शिक्षा के प्रति दृष्टिकोण
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
फिक्र (एक सवाल)
फिक्र (एक सवाल)
umesh mehra
मैंने पत्रों से सीखा
मैंने पत्रों से सीखा
Ankit Halke jha
सालगिरह
सालगिरह
अंजनीत निज्जर
अपनी पीर बताते क्यों
अपनी पीर बताते क्यों
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐अज्ञात के प्रति-119💐
💐अज्ञात के प्रति-119💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पत्थर जैसा दिल बना हो जिसका
पत्थर जैसा दिल बना हो जिसका
Ram Krishan Rastogi
अपने और पराए
अपने और पराए
Sushil chauhan
मेरी आँख वहाँ रोती है
मेरी आँख वहाँ रोती है
Ashok deep
रावण का तुम अंश मिटा दो,
रावण का तुम अंश मिटा दो,
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...