Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2022 · 1 min read

लबों से बोलना बेकार है।

इन लबों से बोलना बेकार है।
नज़रों से समझो गर प्यार है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 2 Comments · 67 Views
You may also like:
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shailendra Aseem
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
बोझ
आकांक्षा राय
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आत्मनिर्भर
मनोज कर्ण
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
तेरा बस इंतज़ार रहता है
Dr fauzia Naseem shad
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...