Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 21, 2021 · 1 min read

लड्डू का भोग

लड्डू का भोग लगाऊँगा ,
माँ खाना नहीं खाऊँगा ,

लड्डू देख मुंँह में आए पानी,
एक नहीं दो चार मैं खाऊंँ,

गोल-गोल दिखने में लड्डू ,
मीठे स्वाद में स्वादिष्ट है लड्डू ,

हलवाई दादा देर न लगाओ ,
दे दो लड्डू प्रसाद मैं खाऊंँ ,

मन ही मन फूट रहे लड्डू ,
एक और मिल जाए खाने को लड्डू ।

रचनाकार ,
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर ।

1 Like · 273 Views
You may also like:
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रक्षाबंधन
Utsav Kumar Aarya
द्विराष्ट्र सिद्धान्त के मुख्य खलनायक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मां।
Taj Mohammad
शासन वही करता है
gurudeenverma198
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का...
Ravi Prakash
-जीवनसाथी -
bharat gehlot
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का...
Ravi Prakash
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
✍️मेरा हमशक्ल है ✍️
'अशांत' शेखर
✍️सिर्फ मजार रहेगी✍️
'अशांत' शेखर
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
ख़ुशी
Alok Saxena
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
देश के हित मयकशी करना जरूरी है।
सत्य कुमार प्रेमी
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रकृति के साथ जीना सीख लिया
Manoj Tanan
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
* आडे तिरछे अनुप्राण *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️खून-ए-इंक़िलाब नहीं✍️
'अशांत' शेखर
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
जीवन मे कभी हार न मानों
Anamika Singh
खेत
Buddha Prakash
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
मैं हासिल नही हूं।
Taj Mohammad
Loading...