Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

लडकियां उदास हो गईं……..

वहशियों का ग्रास हो गईं ,लडकियां उदास हो गईं,
भेडियो की बस्तियां भी ,अब शहर के पास हो गईं|
अपने मन की किससे कहें ,कबतलक यूं घर में रहें,
सड़कें राजधानी की क्यूं गले की फांस हो गईं|

–आर ० सी ० शर्मा “आरसी”

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 306 Views
You may also like:
बहेलिया(मैथिली काव्य)
मनोज कर्ण
सँभल रहा हूँ
N.ksahu0007@writer
मैं ही मैं
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ये वो नहीं है .....!
Buddha Prakash
*मठ में माया* 【 *कुंडलिया* 】
Ravi Prakash
एक शाम ऐसी कभी आये, जहां हम खुद को हीं...
Manisha Manjari
प्रकृति से हम क्या सीखें?
Rohit Kaushik
ज़र्फ़ तेरा अगर
Dr fauzia Naseem shad
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
सुबह -सुबह
gpoddarmkg
दोहे मेरे मन के
लक्ष्मी सिंह
तेरा पापा मेरा बाप
Satish Srijan
“ मत पीटो ढोल ”
DrLakshman Jha Parimal
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
बुद्धिजीवियों पर हमले
Shekhar Chandra Mitra
लोकमाता अहिल्याबाई होलकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"कुछ तो गुन-गुना रही हो"☺️
Lohit Tamta
चांद
Annu Gurjar
तेरी यादें
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
जंगल की सैर
जगदीश लववंशी
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
Dushyant Kumar
जो हुआ अच्छा, जो हो रहा है अच्छा, जो होगा...
Uday kumar
मेरी दादी के नजरिये से छोरियो की जिन्दगी।।
Nav Lekhika
मेरी ईद करा दो।
Taj Mohammad
जियो उनके लिए/JEEYO unke liye
Shivraj Anand
🌸✴️कोई सवाल तो छोड़ना मेरे लिए✴️🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
मुक्तामणि, मुक्तामुक्तक
muktatripathi75@yahoo.com
जिन्दगी मे कोहरा
Anamika Singh
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
Shyam Sundar Subramanian
Loading...