Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

लडकियां उदास हो गईं……..

वहशियों का ग्रास हो गईं ,लडकियां उदास हो गईं,
भेडियो की बस्तियां भी ,अब शहर के पास हो गईं|
अपने मन की किससे कहें ,कबतलक यूं घर में रहें,
सड़कें राजधानी की क्यूं गले की फांस हो गईं|

–आर ० सी ० शर्मा “आरसी”

1 Comment · 258 Views
You may also like:
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
Security Guard
Buddha Prakash
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
अनामिका के विचार
Anamika Singh
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...