Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 2 min read

लघुकथा : ” वो बच्ची और चूङियां “

“मम्मी मुझे चूङियां नहीं अच्छी लगती ऐसी ,आप वापस कर दो” रुचिका की बारह वर्षीय बेटी नव्या ने मुंह बनाकर कहा। रुचिका तेजी से दरवाजे तक गई पर चूङी वाला जा चुका था।
रुचिका वापस आकर बैंगल बाक्स में चूङियां जमाने लगी। दो दिन बाद हरियाली तीज पर पहनने के लिए हरी हरी सुंदर कांच की चूङियां खरीदीं थी रुचिका ने ।तभी नव्या के माप की चूङी देखकर उसने ये सोचकर ले लीं कि बङी हो रही है शायद उसे अच्छी लगें तो तीज के त्यौहार पर पहन लेगी।
पर नव्या ने देखकर मुंह बना दिया तो रुचिका दिमाग दौङाने लगी कि इतने माप की चूङियां किसे दूं।
वैसे बङी सुंदर थीं हरी हरी चूङियां।
“अरे हां ! बगल वाली मालती के घर एक नव्या जितनी बच्ची आती है काम करने मासूम सी , कितनी हसरत भरी नजरों से चूङी वाले की चूङियां देख रही थी वो आज।” रुचिका ने एकाएक आए विचार पर खुश होकर बुदबुदाया ” उसी को दे दुंगी , अभी जा चुकी होगी कल दुंगी , बहुत खुश हो जाएगी “।
मन हल्का हो गया रुचिका का कि चलो चूङियों का सही ठिकाना मिला।
अगले दिन दस बजे का इंतजार करती रुचिका को वो बच्ची अपने समय पर आती न दिखी तो वो खुद चूङियां लेकर पङोस वाली मालती के घर पहुंच गई।
पता चला उस बच्ची की आज तबियत ठीक नहीं तो उसकी मां आई है काम पर।
“चलो इसको ही दे दूं कल बच्ची पहन लेगी त्यौहार पर ” सोचकर रुचिका ने चूङियां उसकी मां को देते हुए कहा ” अपनी बेटी को दे देना चूङियां हैं, कल पहन लेगी वो ,मुस्करा कर कहा रुचिका ने कहा।
पर अगले ही पल काम वाली के आंखों में आंसू देख कर रुचिका को समझ नहीं आया कि हुआ क्या।
चूङियां वापस करते हुए कामवाली ने कहा ” मेमसाब आप रख लीजिए , ये उसके किसी काम की नहीं “उदास होकर कहा उसने।
“पर क्यों ?” रुचिका आश्चर्य में थी।
“क्योंकि वो बाल विधवा है”
हरी चूङियां रुचिका के हाथ से छूटकर फर्श पर बिखर गईं
और अनेक तीखे सवाल माहौल में ।।।।।।

अंकिता

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
634 Views
You may also like:
करवा चौथ
Manoj Tanan
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
माँ की याद
Meenakshi Nagar
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
गणपति वंदना (कैसे तेरा करूँ विसर्जन)
Dr Archana Gupta
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
नया दौर है सँभल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट
Ravi Prakash
ईद हो जायेगी।
Taj Mohammad
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ममता
Rashmi Sanjay
मैं उसकी ज़िद हूँ ...
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
माँ का आँचल
Nishant prakhar
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
✍️दुनियां को यार फिदा कर...
'अशांत' शेखर
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मेरे जैसा
Dr fauzia Naseem shad
A poor little girl
Buddha Prakash
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
"মিত্র"
DrLakshman Jha Parimal
गीत... हो रहे हैं लोग
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
'विजय दिवस'
Godambari Negi
पावस
लक्ष्मी सिंह
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
मुकुट उतरेगा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पूनम की रात में चांद व चांदनी
Ram Krishan Rastogi
प्रेम
Shekhar Chandra Mitra
Loading...