Sep 5, 2019 · 1 min read

लघुकथा -विश्वाश और समपर्ण

बच्चों !’आप ठीक से बैठो बिल्कुल सीधी नजर और पूरा ध्यान मेरी आवाज़ और अपनी सोच पर हो’, कहती हरलीन कक्षा मे कहानी पढा रही थी | आज अध्यापक दिवस पर अपनी पसंदीदा मैम् बन उनकी ही हाव-भाव पर दसवी की छात्रों को तरह बार –बार दुपट्टा सम्भाल रही थी|”श्यामपट का उपयोग भी कर रही थी| तभी किसी बच्चे ने प्रश्न किया दीदी ‘हमे गुरु -श्रदा पर के बारे में कुछ बताए?”’हरलीन बोली ,सुनो! ‘एक नौकर अध्यापक के घर में काम करता था, मालकिन की खाने में मदद किया करता था |उनसे खाने की हर बिधि को सीखता और लिखता और धीरे –धीरे घर ट्राई करता|एक दिन अच्छा शैफ बन गया | अच्छे टू स्टार होटल का स्टार हो गया| आज के दिन की सीख अपने गुरु पर विश्वाश और समपर्ण होना चाहिए| हम गुरु को मन से नमन करते है| | गुरुर्ब्रह्मा ग्रुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः । गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः ॥
आप को भी शिक्षक दिवस की ढेरों शुभकामनाएं।।
रेखा मोहन ५/९/१९

176 Views
You may also like:
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
पिता
Deepali Kalra
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
अप्सरा
Nafa writer
एक थे वशिष्ठ
Suraj Kushwaha
मानव तन
Rakesh Pathak Kathara
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
उम्मीद से भरा
Dr.sima
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नया बाजार रिश्ते उधार (मंगनी) बिक रहे जन्मदिन है ।...
Dr.sima
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या देखें हम...
सूर्यकांत द्विवेदी
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
Loading...