Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 27, 2017 · 1 min read

*** लघुकथा *** ” माहौल देखकर काव्य पाठ करना “

*** लघुकथा ***”
” माहौल देखकर काव्य पाठ करना ”
राजू में कवित्व के सभी गुण थे | बड़े – बड़े मंच पर अपनी कविताओं का पाठ पढ़ने , और मंच के अनुभव अच्छे हो गए थे | आज भी एक नवदुर्गा उत्सव में काव्य पाठ का मौका मिला | मंच संचालन ने राजू के कविता पाठ पर और अपने नाम रोशन का सभी कविओ और सभी जनता के सामने बहुत ही शानदार प्रशंसा कर दी | पहली रचना से तालिओं की गड़गड़ाहट और वाह , वाह की अच्छी प्रतिक्रिया से राजू के अंदर पूर्ण जोश आ गया था | अब तो मैं इस मंच का ” राजा ” बन गया | यही सोच अहंकार की हवा मंच पर राजू के अंदर भर गयी | और मंच संचालन ने और एक रचना की फरमाइश कर दी , फिर क्या था राजू ने सोचा मैं तो खिलाडी हूँ , छोटी से रचना पाठ न करते हुए बड़ी रचना और जनता , श्रोता के माहौल के विपरीत कविता पाठ करते हुए क्या बोल रहे है उसका भी घ्यान रखना नहीं , मंच , आयोजक भूल जाना | फिर श्रोता , जनता से बैठ जाओ , बैठ जाओ का चिल्लाकर कहना और राजू का बड़े दुःख के साथ बैठ जाना | राजू का अंहभाव और दूसरे के चने के झाड़ पर चढ़ाने से , पछतावे के शिवाय कुछ मिलता नहीं | अभी राजू ने माहौल देखकर दूसरे काव्य पाठ में मन को तैयार कर लिया |
@ कॉपीराइट
राजू गजभिये

341 Views
You may also like:
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
पिता की याद
Meenakshi Nagar
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महँगाई
आकाश महेशपुरी
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
रफ्तार
Anamika Singh
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...